बाबा एकर तो दरबार में बुलाई लीजे रे भजन लिरिक्स

बाबा एकर तो दरबार में,
बुलाई लीजे रे,
बाबा थासू आस लगी है,
मत न तोड़ दीजे रे,
ओ बाबा एकर तो दरबार मे,
बुलाई लीजे रे।।



जद जद मंशा पूरी होवे,

पैदल थारे आउ रे बाबा,
पैदल थारे आउ,
मारी मन री आस बाबा,
पूरी कर जे रे,
बाबा एकर तों दरबार में,
बुलाई लीजे रे,
बाबा थासू आस लगी है,
मत न तोड़ दीजे रे,
ओ बाबा एकर तो दरबार मे,
बुलाई लीजे रे।।



दुःखीया रा दुःख दूर करे तो,

हँस कर गले लगावे,
मारी तो अरदास बाबा,
चरणा लीजे रे,
बाबा एकर तो दरबार मे,
बुलाई लीजे रे,
बाबा थासू आस लगी है,
मत न तोड़ दीजे रे,
ओ बाबा एकर तो दरबार मे,
बुलाई लीजे रे।।



जब जब सुगणा थाने पुकारे,

दोडियो दोडियो आवे,
बाबो दोडियो दोडियो आवे,
मैं भी थाने पुकारू बाबा,
दर्शण दिजे रे,
बाबा एकर तो दरबार मे,
बुलाई लीजे रे,
बाबा थासू आस लगी है,
मत न तोड़ दीजे रे,
ओ बाबा एकर तो दरबार मे,
बुलाई लीजे रे।।



जद जद थारो मेलो आवे,

तब तब मन मे आवे,
महावीर हंसराज दुवारे आवे,
कृपा कीजे रे,
बाबा एकर तो दरबार मे,
बुलाई लीजे रे,
बाबा थासू आस लगी है,
मत न तोड़ दीजे रे,
ओ बाबा एकर तो दरबार मे,
बुलाई लीजे रे।।



बाबा एकर तो दरबार में,

बुलाई लीजे रे,
बाबा थासू आस लगी है,
मत न तोड़ दीजे रे,
ओ बाबा एकर तो दरबार मे,
बुलाई लीजे रे।।

प्रेषक – हंसराज मेघवंशी मोहराई
9057564428


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

ऊँचो रे देवल मैया उजलो रे भवानी छावली माता जी की

ऊँचो रे देवल मैया उजलो रे भवानी छावली माता जी की

ऊँचो रे देवल मैया उजलो रे भवानी, दोहा – देवा में देवी बड़ी, बड़ी जगदम्बा माय, रक्षा म्हारी राखज्यो, मैया करजो म्हारी सहाय। करजो म्हारी सहाय, शरण में आया थोरी।…

म्हारी झुपड़िया आवो मारा राम भजन लिरिक्स

म्हारी झुपड़िया आवो मारा राम भजन लिरिक्स

म्हारी झुपड़िया आवो मारा राम, मन रो मोरलीयो रटे थारो नाम, मारी झूपडीया आवो मारा राम, एक बार आया पूरो होवे सब काम, मारी झूपडीया आवो मारा राम।। सूरज उगे…

बाबा डावा हाथ में थी भालो जेलियो भजन लिरिक्स

बाबा डावा हाथ में थी भालो जेलियो भजन लिरिक्स

बाबा डावा हाथ में थी भालो जेलियो, हरजी भाटी बोलिया, और सुन बाबा म्हारी बात, मीणो दिनों थारा भक्त ने, लाज रखो किरतार, रुनेजे वाला लाज रखो किरतार। बाबा डावा…

पहला गुरु जी हम जनमिया पीछे बड़ा भाई

पहला गुरु जी हम जनमिया पीछे बड़ा भाई

पहला गुरु जी हम जनमिया, दोहा – चिंता से चतुराई घटे, दुख से घटे शरीर, पाप किया लक्ष्मी घटे, तो क्या करें दास कबीर। कबीरा कलयुग आवियो, संतना माने नी…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे