अरे रे तेरे खेल निराले बाबोसा चुरू वाले लिरिक्स

अरे रे तेरे खेल निराले,
बाबोसा चुरू वाले,
कलयुग में बाबा मशहूर तू,
सच्चा है तू सच्चा तेरा दरबार,
दिन दुखियों का तू ही दातार,
अजब अनोखे है तेरे चमत्कार,
हो रही जग में तेरी जय जयकार,
अरे रे तेरे खेल निरालें,
बाबोसा चुरू वाले,
कलयुग में बाबा मशहूर तू।।

तर्ज – अरे रे मेरी जान है।



रोज नये चमत्कार करता है तू,

भक्तो के संकट को हरता है तू,
सबकी मुरादे पूरी करता है तू,
बिन मांगे झोलियाँ भरता है तू,
अरे रे तेरे खेल निरालें,
बाबोसा चुरू वाले,
कलयुग में बाबा मशहूर तू।।



पल में पलट जाये किस्मत की रेख,
एक बार चुरू धाम आके देख,
एक नही लाखो की बनी है तकदीर,
संकट मोचन बन हरे सबकी पीर,
अरे रे तेरे खेल निरालें,
बाबोसा चुरू वाले,
कलयुग में बाबा मशहूर तू।।



बाईसा को मिला श्री बाबोसा का प्यार,

बाबोसा का होता बाईसा में दीदार,
कृपा बाबोसा की बाईसा का उपकार,
‘दिलबर’ मिला है खुशियों का संसार,
कपिल को दर बुलाले,
ओ दिलबर दिल में बसाले,
मेरे जीवन का आधार तू।।



अरे रे तेरे खेल निराले,

बाबोसा चुरू वाले,
कलयुग में बाबा मशहूर तू,
सच्चा है तू सच्चा तेरा दरबार,
दिन दुखियों का तू ही दातार,
अजब अनोखे है तेरे चमत्कार,
हो रही जग में तेरी जय जयकार,
अरे रे तेरे खेल निरालें,
बाबोसा चुरू वाले,
कलयुग में बाबा मशहूर तू।।

गायक – श्री कपिल पुरोहित इंदौर।
लेखक / प्रेषक – दिलीप सिंह सिसोदिया ‘दिलबर’।
9907023365


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

कैसी प्रभु तूने कायनात बांधी भजन लिरिक्स

कैसी प्रभु तूने कायनात बांधी भजन लिरिक्स

कैसी प्रभु तूने कायनात बांधी, एक दिन के पीछे एक रात बांधी।। कभी थकते नहीं हैं वो घोड़े, तूने सूरज के रथ में जो जोड़े, रजनी ब्याहने चला चांद दूल्हा…

कलयुग बैठा मार कुंडली जाऊँ तो मैं कहाँ जाऊँ भजन लिरिक्स

कलयुग बैठा मार कुंडली जाऊँ तो मैं कहाँ जाऊँ भजन लिरिक्स

कलयुग बैठा मार कुंडली, जाऊँ तो मैं कहाँ जाऊँ, अब हर घर में रावण बैठा, इतने राम कहाँ से लाऊँ।। दशरथ कौशल्या जैसे, मात पिता अब भी मिल जाये, पर…

हनुमत जैसा रुप तुम्हारा कोठारी कुल उजियारा लिरिक्स

हनुमत जैसा रुप तुम्हारा कोठारी कुल उजियारा लिरिक्स

हनुमत जैसा रुप तुम्हारा, कोठारी कुल उजियारा, हो माँ छगनी का प्यारा, भक्तो का पालनहारा, बाबोसा नाम तुम्हारा, प्राणों से भी प्यारा, हनुमत जेसा रुप तुम्हारा, कोठारी कुल उजियारा।। तर्ज…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे