आज किरपा बरसा दो श्याम रंग अपना चढ़ा दो भजन लिरिक्स

आज किरपा बरसा दो,
श्याम रंग अपना चढ़ा दो,
मगन हो नाचूं गाउँ,
मगन हो नाचूं गाउँ,
ऐसा मुझे मस्त बना दो,
आज किरपा बरसा दों,
श्याम रंग अपना चढ़ा दो।।



मन की मुराद मेरी पूरी कब होगी,

मन की मुराद मेरी पूरी कब होगी,
श्याम तेरी याद में बनूँगा प्रेम रोगी,
ऐसी लगन लगा दो,
आज किरपा बरसा दों,
श्याम रंग अपना चढ़ा दो।
मगन हो नाचूं गाउँ,
मगन हो नाचूं गाउँ,
ऐसा मुझे मस्त बना दो,
आज किरपा बरसा दों,
श्याम रंग अपना चढ़ा दो।।



ऐसी चढ़ा दो मुझे नाम की मस्ती,

ऐसी चढ़ा दो मुझे नाम की मस्ती,
जिस मस्ती को दुनिया तरसती,
मस्त मलंग बना दो,
आज किरपा बरसा दों,
श्याम रंग अपना चढ़ा दो।
मगन हो नाचूं गाउँ,
मगन हो नाचूं गाउँ,
ऐसा मुझे मस्त बना दो,
आज किरपा बरसा दों,
श्याम रंग अपना चढ़ा दो।।



नामदेव रसखान कबीरा,

नामदेव रसखान कबीरा,
ऐसा बना दो मस्त फकीरा,
वृन्दावन में बसा दो,
आज किरपा बरसा दों,
श्याम रंग अपना चढ़ा दो।
मगन हो नाचूं गाउँ,
मगन हो नाचूं गाउँ,
ऐसा मुझे मस्त बना दो,
आज किरपा बरसा दों,
श्याम रंग अपना चढ़ा दो।।



जग है दीवाना तेरा बांके बिहारी,

जग है दीवाना तेरा बांके बिहारी,
‘चित्र विचित्र’ को आस तुम्हारी,
पागलपन को चढ़ा दो,
आज किरपा बरसा दों,
श्याम रंग अपना चढ़ा दो।
मगन हो नाचूं गाउँ,
मगन हो नाचूं गाउँ,
ऐसा मुझे मस्त बना दो,
आज किरपा बरसा दों,
श्याम रंग अपना चढ़ा दो।।



आज किरपा बरसा दो,

श्याम रंग अपना चढ़ा दो,
मगन हो नाचूं गाउँ,
मगन हो नाचूं गाउँ,
ऐसा मुझे मस्त बना दो,
आज किरपा बरसा दों,
श्याम रंग अपना चढ़ा दो।।

स्वर – बाबा श्री चित्र विचित्र महाराज।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें