यूँ कई फेरे माला ने भाया यू कई फेरे माला ने

यूँ कई फेरे माला ने भाया,
यू कई फेरे माला ने,
थारा खोल कपट का ताला ने,
पछे फेर जे माला ने।।



इ माला ने मीरा बाई फेरी,

अरररररर सांपा को हार बना बा ने,
तू पछे फेर जे माला ने,
थारा खोल कपट का ताला ने,
पछे फेर जे माला ने।।



इ माला ने नरसी जी फेरी,

अरररररर नानी बाई को मायरो भराबा ने,
तू पछे फेर जे माला ने,
थारा खोल कपट का ताला ने,
पछे फेर जे माला ने।।



इ माला ने भागीरथ फेरी,

अरररररर गंगा ने नीचे लाबा ने,
तू पछे फेर जे माला ने,
थारा खोल कपट का ताला ने,
पछे फेर जे माला ने।।



इ माला ने बाल मण्डल फेरी,

अरररररर राम जी ने भजन सुनाबा ने,
तू पछे फेर जे माला ने,
थारा खोल कपट का ताला ने,
पछे फेर जे माला ने।।


‘अगर कलयुग में माला फेरनी है तो’

थारा फोड़ फोन का ढाबा ने
तू पछे फेर जे माला ने,
थारा खोल कपट का ताला ने,
पछे फेर जे माला ने।।



यूँ कई फेरे माला ने भाया,

यू कई फेरे माला ने,
थारा खोल कपट का ताला ने,
पछे फेर जे माला ने।।

सिंगर – सुधीर पारीक
9785222605


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें