ये ग्यारस बिन तेरे दर्शन क्यों बाबा बीत जाती है भजन लिरिक्स

ये ग्यारस बिन तेरे दर्शन,
क्यों बाबा बीत जाती है,
क्यों बाबा बीत जाती है,
मुझे दिन रात खाटू की,
ओ बाबा याद आती है,
तुम्हारी याद आती है।।

तर्ज – बहारों फूल बरसाओ।



है सूना मन तेरे दर्शन,

के बिन बाबा करूं मैं क्या,
तू ही आजा मिलन को अब,
मैं तुझसे और मांगू क्या,
हैं रोती याद में तेरी,
ये आँखे भर सी जाती हैं,
तुम्हारी याद आती है।।



तेरे मन्दिर के बाहर का,

नजारा याद आता है,
कोई रोता है मिलने को,
तो कोई मुस्कुराता है,
महक माटी की खाटू की,
मेरी सांसो में आती है,
मेरी सांसो में आती है।।



तू कर ऐसा जतन बाबा,

समय जल्दी ये कट जाए,
तेरे दरबार में आकर,
तेरे भजनों को हम गायें,
तुम्हारा ‘स्नेह’ पाने की,
कसक बढ़ती ही जाती है,
कसक बढ़ती ही जाती है।।



ये ग्यारस बिन तेरे दर्शन,

क्यों बाबा बीत जाती है,
क्यों बाबा बीत जाती है,
मुझे दिन रात खाटू की,
ओ बाबा याद आती है,
तुम्हारी याद आती है।।

गायक – अंशुल बंसल।
लेखक / प्रेषक – अमित बंसल जी ‘स्नेह’
9899509023


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

मेरी एक ही तमन्ना ऐ साँवरे बिहारी भजन लिरिक्स

मेरी एक ही तमन्ना ऐ साँवरे बिहारी भजन लिरिक्स

मेरी एक ही तमन्ना, ऐ साँवरे बिहारी, रहना ना दूर हमसे, लेना खबर हमारी, रहना ना दूर हमसे, लेना खबर हमारी, मेरी एक हीं तमन्ना, ऐ साँवरे बिहारी।। तर्ज –…

तेरे हाथ में पतवार है फिर नाव क्यों मझधार है भजन लिरिक्स

तेरे हाथ में पतवार है फिर नाव क्यों मझधार है भजन लिरिक्स

तेरे हाथ में पतवार है, फिर नाव क्यों मझधार है, मेरे सांवरे, मेरे सांवरे, बड़ी तेज़ गम की ये धार है, मेरा तू ही खेवनहार है, मेरे सांवरे, मेरे सांवरे।।…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे