यशोमती नन्दन बृजबर नागर भजन लिरिक्स

यशोमती नन्दन बृजबर नागर,
गोकुल रंजन कान,
गोपी परण धन मदन मनोहर,
कालीया दमन विधान,
यशोमती नन्दन बृजबर नागर,
गोकुल रंजन कान।।

हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे,
हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे।



अमलहरी नाम अमिय विलासा,

विपिन पुरंदर नवीन नगरबर,
बंशी बदन सुबासा,
यशुमति नन्दन बृजबर नागर,
गोकुल रंजन कान।।

हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे,
हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे।



बृजजन पालन असुर कुल नाशन,

नन्द गोधन रखवाला,
गोविन्द माधव नवनीत तस्कर,
सुन्दर नन्द गोपाला,
यशुमति नन्दन बृजबर नागर,
गोकुल रंजन कान।।

हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे,
हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे।



जामुन तट चल गोपी बसन हर,

रास रसिक कृपामय,
श्री राधावल्लभ बृन्दावन नटवर,
भकती विनोदाश्रय,
यशुमति नन्दन बृजबर नागर,
गोकुल रंजन कान।।

हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे,
हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे।



यशुमति नन्दन बृजबर नागर,

गोकुल रंजन कान,
गोपी परण धन मदन मनोहर,
कालीया दमन विधान,
यशुमति नन्दन बृजबर नागर,
गोकुल रंजन कान।।

Singer : Chitra Singh


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें