वो नसीबों से ज़्यादा दे रहा है भजन लिरिक्स

बिन पानी के नाव खे रहा है,
वो नसीबों से ज़्यादा दे रहा है,
वो नसीबो से ज़्यादा दे रहा है।।



भूखे उठते है पर,

भूखे सोते नहीं,
दुःख आते है हम पर,
तो रोते नहीं,
दिन रात खबर ले रहा है,
वो नसीबो से ज़्यादा दे रहा है।।



मेरा छोटा सा घर,

महलों का राजा है वो,
मेरी औक़ात क्या,
महाराजा है वो,
फिर भी साथ मेरे रह रहा है,
वो नसीबो से ज़्यादा दे रहा है।।



‘बनवारी’ दीवाने,

बड़े से बड़े,
इनके चरणों में,
कंकर के जैसे पड़े,
फिर भी अर्ज़ी मेरी सुन रहा है,
वो नसीबो से ज़्यादा दे रहा है।।



बिन पानी के नाव खे रहा है,

वो नसीबों से ज़्यादा दे रहा है,
वो नसीबो से ज़्यादा दे रहा है।।

Singer – Raj Pareek


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

श्याम बाबा श्याम बाबा तेरे पास आया हूँ भजन लिरिक्स

श्याम बाबा श्याम बाबा तेरे पास आया हूँ भजन लिरिक्स

श्याम बाबा श्याम बाबा, तेरे पास आया हूँ, चरणों में तेरे अरदास लाया हूँ, चरणों में तेरे अरदास लाया हूँ।। सच्चा है दरबार तुम्हारा, संकट काटो श्याम हमारा, जब जब…

खाटू नगरी से आया है मेरा बाबा श्याम भजन लिरिक्स

खाटू नगरी से आया है मेरा बाबा श्याम भजन लिरिक्स

हो के लीले पे सवार, करने भक्तों का उद्धार, खाटू नगरी से आया है, मेरा बाबा श्याम, हो के लीले पे सवार।bd। तर्ज – लेके पहला पहला। लीले पे बैठा…

कहाँ बेकसों का रहा ये ज़माना चले आओ कान्हा लिरिक्स

कहाँ बेकसों का रहा ये ज़माना चले आओ कान्हा लिरिक्स

कहाँ बेकसों का, रहा ये ज़माना, चले आओ कान्हा, चले आओ कान्हा।। तर्ज – हमें और जीने की। यहां पर सुकूं का, नहीं कोई पल है, जुंबा पे हैं कांटे,…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे