ऊंचो है भवन थारो कालू गढ़ वाली भजन लिरिक्स

ऊंचो है भवन थारो,
कालू गढ़ वाली,
परचा साचा काली माता,
तू है महारानी,
परचा साचा काली माता,
तू है महारानी,
ऊचो है भवन थारो,
कालू गढ़ वाली।।



ब्रह्म विष्णु शंकर मैया,

थाने ही मनावे,
ब्रह्मा विष्णु शंकर मैया,
थाने ही मनावे,
देवलोक मिल तेज पूंज सु,
थाने अवतारी,
देवलोक मिल तेज पुंज सु,
थाने अवतारी,
ऊचो है भवन थारो,
कालू गढ़ वाली।।



जात देवन ने आवे कोई,

जडूला जडावे,
जात देवन ने आवे कोई,
जडूला जडावे,
झोली आप भरावो,
काली माता उपकारी,
झोली आप भरावो,
काली माता उपकारी,
ऊचो है भवन थारो,
कालू गढ़ वाली।।



देश विदेशा सु माता,

भक्त आसरे आवे,
देश विदेशा सु माता,
भक्त आसरे आवे,
करे आरती धूप दीप सु,
गावे किरत थारी,
करे आरती धूप दीप सु,
गावे किरत थारी,
ऊचो है भवन थारो,
कालू गढ़ वाली।।



राधा किशन जी मैया,

थारा भगत कहाया,
राधा किशन जी मैया,
थारा भगत कहाया,
शरणे आया री काली,
करजो रखवाली,
शरणे आया री काली,
करजो रखवाली,
ऊचो है भवन थारो,
कालू गढ़ वाली।।



दास अशोक थाने,

अरज सुनावे,
दास अशोक थाने,
अरज सुनावे,
करजो किरपा भगत मंडल पे,
कालू गढ़ वाली,
किरपा किजो भगत मंडल पे,
कालू गढ़ वाली,
ऊचो है भवन थारो,
कालू गढ़ वाली।।



ऊंचो है भवन थारो,

कालू गढ़ वाली,
परचा साचा काली माता,
तू है महारानी,
परचा साचा काली माता,
तू है महारानी,
ऊचो है भवन थारो,
कालू गढ़ वाली।।

गायक – महेंद्र सिंह जी राठौर।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें