उज्जैन नगरी में बैठ्यो पिये मद प्याला लिरिक्स

काशी विश्वनाथ महादेव,
को तू भैरू मतवाला,
उज्जैन नगरी में बैठ्यो,
पिये मद प्याला।।



ब्रम्हा विष्णु शिवजी में कुछ,

चाल रह्यो संवाद,
कुण बड़ो कुण छोटो,
तिन्या में सु कर्या विवाद,
चार वेद भी बोल्या सारा,
महादेव की बात,
ब्रम्हा जी को चौथो मस्तक,
उची बोली बात,
जद महादेव का गुस्सा सु,
थारो रूप हुयो काला,
उज्जैन नगरी में बैठ्यों,
पिये मद प्याला।।



ब्रम्हा जी का मस्तक ने वो,

काट लियो हांथा सु,
हाल गयो ब्रम्हाड,
भैरू जी का हलकारा सु,
ले हाथ मे मुंडी,
ब्रम्हा की वो बलकारा सु,
आ पहुँचो काशी में भैरू,
खेल रह्यो माथा सु,
जय जय महाकाल भैरू का,
गल में मुंडा की माला,
उज्जैन नगरी में बैठ्यों,
पिये मद प्याला।।



देवराज सेव्यमान पावनांघ्रिपंकजम।

व्यालयज्ञ सूत्रमिन्दु शेखरं कृपाकरं।
नारदादि योगिवृंद वंदितं दिगम्बरम।
काशिकापुराधिनाथ कालभैरवम भजे।।



बावन भैरू नाच रह्या ये,

पीके मद का प्याला,
महादेव कंकाली का थे,
बावन भैरू लाला,
‘भवानी गुर्जर’ गावे,
पहरा दे विजय की माला,
बेरी दुश्मन देख रह्या छ,
टेड़ा टेड़ा साला,
आजा थान पर दुश्मन को,
मुंडो हो जाये काला,
उज्जैन नगरी में बैठ्यों,
पिये मद प्याला।।



काशी विश्वनाथ महादेव,

को तू भैरू मतवाला,
उज्जैन नगरी में बैठ्यो,
पिये मद प्याला।।

लेखक व गायक – भवानी सिंह गुर्जर।
(9929990990)


video embedding if off.

इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

भक्ति रा मार्ग झीणा रे संतो राजस्थानी भजन लिरिक्स

भक्ति रा मार्ग झीणा रे संतो राजस्थानी भजन लिरिक्स

भक्ति रा मार्ग झीणा, भक्ति रा मार्ग दुजा रे साधु भई, भगती रा दुजा रे साधु भई, भगती रा मार्ग झीणा, थोडो समझेनी थोडो समझेनी, थोडी समझ पकड मन सुआ,…

जोगिया सत शब्द लो भेवा भजो देव सिर देवा

जोगिया सत शब्द लो भेवा भजो देव सिर देवा

जोगिया सत शब्द लो भेवा, भजो देव सिर देवा।। सुखदेव जैसा कौन था जग में, जनमत छोड़ सब दिया, जोया मुक्ति त्याग में होती, जनक गुरु क्यों किया, सत शब्द…

जय जय जालन्धर नाथ आपने बार बार बलिहारी

जय जय जालन्धर नाथ आपने बार बार बलिहारी

जय जय जालन्धर नाथ आपने, बार बार बलिहारी, महिमा है जग में भारी, महिमा है जग में भारी।। कनकाचल पर्वत मन्दिर थारो, शोभा जग सु न्यारी, कनकाचल पर्वत मन्दिर थारो,…

नदी रे किनारे म्हारो कान्हो पतंग उड़ावे

नदी रे किनारे म्हारो कान्हो पतंग उड़ावे

नदी रे किनारे म्हारो कान्हो, पतंग उड़ावे, आयो पवन रो झोंलों, टूटी रेशम री डोरी, नदी रे किनारे।। नदी रे किनारे म्हारों कान्हो, बंशी बजावे, बंशी री टेर सुण ने,…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे