श्री बाबोसा का जय जयकारा भजन लिरिक्स

श्री बाबोसा का जय जयकारा,

देखो अम्बर से,
फूल बरसते है,
नर नारी मिलके,
अगवानी करते है,
बाईसा पधारे है,
पलके बिछाये हम,
बाबोसा भी आयेंगे,
दिल से पुकारे हम,
अंगना सजाओ,
चोक पुराओ,
मंगल गाओ मोति से वधाओ,
आया है अवसर प्यारा,
जय जयकारा जय जयकारा,
गूंज रहा है जय जयकारा,
जय जयकारा जय जयकारा,
श्री बाबोसा का जय जयकारा।।

तर्ज – जय जय कारा।



जहाँ जहाँ ये चरण पड़े,

वो धरती पावन हो जाये,
बाईसा ऐसी कृपा,
ये कृपा तेरी,
श्री बाबोसा का बल है,
आप मे समाया है बाईसा,
हम भक्तो पर,
ममता की छाया है तेरी,
जन जन में है खुशहाली,
पाई सौगात निराली,
हम भक्तो के भाग्य है जागे,
बाईसा आज जो हमने,
पाया दर्श तुम्हारा,
जय जयकारा जय जयकारा,
गूंज रहा है जय जयकारा,
जय जयकारा जय जयकारा,
श्री बाबोसा का जय जयकारा।।



पग पग पर भक्त खड़े,

राहों में हाथ बिछाये,
हाथों की बदले लकीरे,
जो कृपा तेरी आई शुभ मंगल बेला,
दर्श हुये बाईसा तुम्हारे,
बदलो सबकी तकदीरे,
ये अर्जी मेरी,
आई है दीवाली,
दीपिका ये दीपो वाली,
दिलबर ये दुनिया दीवानी,
जिनकी वो बाबोसा,
हमे प्राणों से प्यारा,
जय जयकारा जय जयकारा,
गूंज रहा है जय जयकारा,
जय जयकारा जय जयकारा,
श्री बाबोसा का जय जयकारा,

श्री बाबोसा का जय जयकारा।।

गायिका – दीपिका सुतरिया।
लेखक / प्रेषक – दिलीप सिंह सिसोदिया ‘दिलबर’।
9907023365


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

ये मिलते नहीं दोबारा रे करो मात पिता की सेवा भजन लिरिक्स

ये मिलते नहीं दोबारा रे करो मात पिता की सेवा भजन लिरिक्स

ये मिलते नहीं दोबारा रे, करो मात पिता की सेवा।। तर्ज – बता मेरे यार सुदामा रे। मात पिता हो रूप हरी का, मात पिता हो रूप हरी का, पार…

तेरे कई जन्म बन जाये जो हरि से प्यार हो जाये

तेरे कई जन्म बन जाये जो हरि से प्यार हो जाये

तेरे कई जन्म बन जाये, जो हरि से प्यार हो जाये, तो करुणाकर से कोई दिन, तेरा दीदार हो जाये।। भटकता रहता है प्राणी, जन्म मृत्यु के बंधन में, जगत…

शनि डरे रे भूत भागे छींद बारे दादा के आगे लिरिक्स

शनि डरे रे भूत भागे छींद बारे दादा के आगे लिरिक्स

शनि डरे रे भूत भागे, छींद बारे दादा के आगे।। जो कोई लेत है नाम तुम्हारो-2, सोई किस्मत जागे, छींद बारे दादा के आगे।। सब की आशा पूरी करते-2, छल…

मोरी पीर हरो तुम बिन कौन हमारो भजन लिरिक्स

मोरी पीर हरो तुम बिन कौन हमारो भजन लिरिक्स

मोरी पीर हरो, तुम बिन कौन हमारो।। द्रुपद सुता के चीर बढ़ायो, पट के बीच पधारियो, ग्राह से गज के फंद छुडायो, नंगे पांव पधारियो, मोरी पीर हरों, तुम बिन…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे