थे साँचा किशन मुरार सिरजन हार पीरजी उतारो म्हाने पेले पार

थे साँचा किशन मुरार सिरजन हार,

दोहा – हरजी कह हजूर ने,
सुणो नाथ निज भेण,
परालब्ध प्रभु मिले,
सतगुरु आदु सेण।
बड़ बगलों सू बिगड़े,
बांदर से बन राय,
हरजी कह घर कुसंगत बिगड़े,
भौम कपूता जाय।
चुगली गारा चोरटा,
करनी गारा कपूत,
हरजी के हर नाम बिना,
होवे जंगल का भूत।
चुगली गारा मत मरो,
थां बिना चुगली करसी कूण,
आपो आप गळ जावसी,
ज्यूँ पाणी में लूण।



थे साँचा किशन मुरार सिरजन हार,

पीरजी उतारो म्हाने पेले पार जी।।



जती सती में रामदेजी राजा रे,

किशन कला में हो किरतार हे।।



सत्यवादियों रा बाबा कौल राखिया,

बाचा दिया म्हाने किशन मुराड़ हे।।



देव कला में बाबो डाणु ने दलियो,

उजड़ भौम बसाई रे बाजार हे।।



लीले चढ़िया आप रामदे,

सुख पावे रे सगळो संसार हे।।



माही रे भादवे मेळो रे भरीजै,

दिसू ग्यारस भारो भार हे।।



दूरा देशा रा आवे थोरे जातरू,

सिंवरे जको री बाबा करजो सहाय हे।।



तीन लोक में तंवर तापिया,

आलम देव बड़ो दातार हे।।



सवाई जी कह म्हारो सुकृत शब्दों,

हक रो बिणज करो व्योपार हे।।



थे साचा किशन मुरार सिरजन हार,

पीरजी उतारो म्हाने पेले पार जी।।

प्रेषक – रामेश्वर लाल पँवार।
आकाशवाणी सिंगर।
9785126052


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

चरणों मैं लियो तुम्हारो शरणे आयो री लजिया रखो

चरणों मैं लियो तुम्हारो शरणे आयो री लजिया रखो

शरणे आयो री लजिया रखो, मालिक मेरा, चरणों मैं लियो तुम्हारो, आओ मेरा सतगुरु आंगन विराजो, गुण दे मेरा अवगुनिया निवारों, मालिक मेरा चरणों मैं लियो तुम्हारो।। पहले हती म्हारा…

भई मारा करले करले काया रो कल्याण मुक्ति रो मोको आवियो

भई मारा करले करले काया रो कल्याण मुक्ति रो मोको आवियो

भई मारा करले करले, काया रो कल्याण, जीवड़े रो कल्याण, मुक्ति रो मोको आवियो, मुक्ति रो मोको आवियो।। अरे बीरा मारा बोलो बोलो, कोयल जेडा बोल, कोयल जेडा बोल, कागा…

ॐ नमस्कार गुरुसा बारम्बारा खेतेश्वर आरती लिरिक्स

ॐ नमस्कार गुरुसा बारम्बार खेतेश्वर आरती लिरिक्स

ॐ नमस्कार गुरुसा बारम्बारा, ॐ नमस्कार शिव बारम्बारा, ॐ नमस्कार हर बारम्बारा।। अनन्त कोटि दया के स्वामी, जड़ चेतन में वास तुम्हारा, ॐ नमस्कार गुरु बारम्बारा, ॐ नमस्कार शिव बारम्बारा।।…

सैया आज पूनम की है रात गई रे सतसंगत में लिरिक्स

सैया आज पूनम की है रात गई रे सतसंगत में लिरिक्स

सैया आज पूनम की है रात, गई रे सतसंगत में, सईयाँ आज पूनम की है रात, गई रे सतसंगत में, मारा सिमरत पकडी बाय, भिगोई घेरा रंग में, सुरता आज…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे