थारे सेठ जी रो सेठ म्हारो बाप लागे भजन लिरिक्स

अइंया आंख ना दिखाओ,
थाने पाप लागे,
थारे सेठ जी रो सेठ,
म्हारो बाप लागे।।



मिनख जमारो,

दोरो पायो,
जग में बस,
अभिमान कमायो,
ओ झूठे रोब ने,
दिखवान में के धाक लागे,
थारें सेठ जी रो सेठ,
म्हारो बाप लागे।।



श्याम की माया,

श्याम ही जाने,
रंक ने राजा,
पल में बनावे,
थारे म्हारे में के,
अलग अलग छाप लागे,
थारें सेठ जी रो सेठ,
म्हारो बाप लागे।।



बस इतनी सी,

बात जानलो,
‘शुभम रूपम’ थे,
गाठ बांध लो,
सागे सागे सबके,
चालन में बड़ी शान लागे,
थारो म्हारो सबको सेठ,
सांवरो सबको बाप लागे।।



अइंया आंख ना दिखाओ,

थाने पाप लागे,
थारे सेठ जी रो सेठ,
म्हारो बाप लागे।।

स्वर – शुभम रूपम।
प्रेषक – हरीश गोयल।
9375890614


पिछला भजनमैया री मैया शारदे तोहे लाल रंग की चुनरिया सोहे
अगला भजनभर दे सभी की झोली मेहंदीपुर वाले बाला भजन लिरिक्स

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें