थारे दर्शन बिना म्हारे श्याम कुछ भी ना भावे भजन लिरिक्स

थारे दर्शन बिना म्हारे श्याम,
कुछ भी ना भावे,
भर भर आवे कालजो मेरो,
याद थारी आवे,
सांवरे म्हारे सांवरे,
सांवरे म्हारे सांवरे।।



थारे दर पर आना चाहूं,

जी भर थारा दर्शन चाहूं,
बिन देखे थाने बाबा,
नैन भर भर आवे,
थारे दर्शन बिना म्हारा श्याम,
कुछ भी ना भावे,
सांवरे म्हारे सांवरे,
सांवरे म्हारे सांवरे।।



थारे दर पर आके बाबा,

भजनों से थाने रिझाना चाहूं,
बिन सुनाए थाने दिल की,
हिवड़ों ना माने,
थारे दर्शन बिना म्हारा श्याम,
कुछ भी ना भावे,
सांवरे म्हारे सांवरे,
सांवरे म्हारे सांवरे।।



‌बहुत चाव से ओ म्हारे बाबा,

थारा भोग लगाना चाहूं,
बिन थारी मनुहार के,
मनडो ना माने,
थारे दर्शन बिना म्हारा श्याम,
कुछ भी ना भावे,
सांवरे म्हारे सांवरे,
सांवरे म्हारे सांवरे।।



थारे चरणों में म्हारे बाबा,

‘दीपक’ धोक लगाना चाहूं,
पगधूलि लिए बिन श्याम,
चैन कोनी आवे,
थारे दर्शन बिना म्हारा श्याम,
कुछ भी ना भावे,
सांवरे म्हारे सांवरे,
सांवरे म्हारे सांवरे।।



थारे दर्शन बिना म्हारे श्याम,

कुछ भी ना भावे,
भर भर आवे कालजो मेरो,
याद थारी आवे.
सांवरे म्हारे सांवरे,
सांवरे म्हारे सांवरे।।

गायक / प्रेषक – कुंवर दीपक।
8700018045


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें