थामो हाथ आके मेरे सांवरिया भजन लिरिक्स

थामो हाथ आके मेरे सांवरिया,
दर पे खड़ा है तेरे भगत बावरिया।

दोहा – घिर आया है जीवन में मेरे,
कष्टों का तूफान,
हाथ पकड़ ले आके मेरा,
कहीं निकल ना जाये जान।



थामो हाथ आके मेरे सांवरिया,

दर पे खड़ा है तेरे भगत बावरिया।।

तर्ज – खाली दिल नहीं जान वी।



लाखों की बाबा तूने बिगड़ी बनाई है,

मेरी भी किस्मत तेरे दर पे ले आई है,
मैंने सुना है तू हारे का सहारा है,
हारे का सहारा बेसहारे का सहारा है,
कैसी जादूभरी तेरी नगरिया,
कैसी जादूभरी तेरी नगरिया,
दर पे खड़ा है तेरे भगत बावरिया,
दर पे खड़ा है तेरे भगत बावरिया।।



आँखों में आंसू और पैरों में छाले हैं,

रूठा क्यों मुझसे मेरे श्याम खाटूवाले है,
मेरा जीवन अब तो तेरे हवाले है,
मुझसे भी पहले तूने लाखों संभाले हैं,
बीत जाये चाहे सारी उमरिया,
बीत जाये चाहे सारी उमरिया,
दर पे खड़ा है तेरे भगत बावरिया,
दर पे खड़ा है तेरे भगत बावरिया।।



शीश का दानी है तू लखदातार है,

धीरज बँधाए तू ही करे बेडा पार है,
चरणों में तेरे मेरा कुल संसार है,
कठ पुतली हूँ मैं तो तू ही करतार है,
मेरा श्याम सबकी रखता खबरिया,
मेरा श्याम सबकी रखता खबरिया,
दर पे खड़ा है तेरे भगत बावरिया,
दर पे खड़ा है तेरे भगत बावरिया।।



थामों हाथ आके मेरे सांवरिया,

दर पे खड़ा है तेरे भगत बावरिया।।

Singer – Anjali Dwivedi Ji


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें