प्रथम पेज कृष्ण भजन तेरी मोरछड़ी लहरा दे रे श्याम भजन लिरिक्स

तेरी मोरछड़ी लहरा दे रे श्याम भजन लिरिक्स

मेरे सांवरिया सरकार सरकार,
तेरी मोरछड़ी लहरा दे रे,
मेरे खाटू के घनश्याम घनश्याम,
संकट को दूर भगा दे रे।।

तर्ज – श्री गोवर्धन महाराज।



बिन सावन नैना बरस रहे,

तेरे दर्शन को ये तरस रहे,
तेरी चौखट पर अब आन पड़े,
तेरे चरणो में अब आन पड़े,
आजा नीले के असवार असवार,
तेरी मोरछडी लहरा दे रे,
मेरे खाटू के घनश्याम घनश्याम,
संकट को दूर भगा दे रे।।



हारे का तू ही सहारा है,

नदियों का तू ही किनारा है,
तू सबका पालनहारा है,
तू मेरा पालनहारा है,
आजा कलयुग के अवतार अवतार,
तेरी मोरछडी लहरा दे रे,
मेरे खाटू के घनश्याम घनश्याम,
संकट को दूर भगा दे रे।।



संकट की घड़ीया आई है,

सारी दुनिया घबराई है,
भगतो ने अर्ज लगाई है,
हेमंत ने अर्ज लगाई है,
अब आजा लखदातार लखदातार,
तेरी मोरछडी लहरा दे रे,
मेरे खाटू के घनश्याम घनश्याम,
संकट को दूर भगा दे रे।।



मेरे सांवरिया सरकार सरकार,

तेरी मोरछड़ी लहरा दे रे,
मेरे खाटू के घनश्याम घनश्याम,
संकट को दूर भगा दे रे।।

Singer – Hemant Aggarwal


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।