प्रथम पेज हरियाणवी भजन तेरी भोली भोली शान बालाजी करगी हो जादू सा

तेरी भोली भोली शान बालाजी करगी हो जादू सा

तेरी भोली भोली शान बालाजी,
करगी हो जादू सा।।



तेरी जब त देखी,

जोत मन्नै नूरानी हो,
तेरा बाल रुप मन भागया,
बणी दिवानी हो,
दिया अज्ञानी तं ज्ञान बालाजी,
करगी हो जादू सा।।



जब पढुँ चालीसा जी करः,

पढ़ती जाऊँ मैं,
करुं राम धवनि का जाप,
अनोखी गाऊं मैं,
तेरी भक्ति या हनुमान,
करगी हो जादू सा।।



तेरा लयाई लंगोटा,

सोटा कर स्वीकार हो,
सवामणी का रोट मैं,
पवनकुमार हो,
इबके रखियो मान बालाजी,
करगी हो जादू सा।।



भक्ति करता कप्तान शर्मा,

गाम समाल मेंं,
बहार काढ़ यो फसया,
मोहजाल में,
सुरजभान वरदान बालाजी,
करगी हो जादू सा।।



तेरी भोली भोली शान बालाजी,

करगी हो जादू सा।।

गायक – नरेंद्र कौशिक जी।
प्रेषक – राकेश कुमार खरक जाटान(रोहतक)
9992976579


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।