तेरे सोहणे दर नु छड सतगुरु साडा होर ठिकाणा नई लिरिक्स

तेरे सोहणे दर नु छड सतगुरु,
साडा होर ठिकाणा नई।

सुण वे सज्जणा,
तेरे दर ते हूण मैं जीना मरना,
चरणां तों दूर ना जावां,
तै थों ए ही बस मैं मंगणा,
ना करीं चरणां तों मैनू दूर,
तेरा दर छडक़े जाणा नई।



तेरे सोहणे दर नु छड सतगुरु,

साडा होर ठिकाणा नई,
ना करीं चरणां तों मैनूं दूर,
तेरा दर छडक़े जाणा नई।।



झूठे जग ने बहोत सताया,

ताइंयो तेरे दर ते आया,
तेरे दर विच का दा घाटा,
हीरा ऐंवे जनम गवाया,
झूठे जग ने बहोत सताया,
ताइंयो तेरे दर ते आया,
तेरे दर विच का दा घाटा,
हीरा ऐंवे जनम गवाया,
हो तेरे वाजों मेरा पापी दा,
तेरे वाजों मेरा पापी दा,
कोई होर ठिकाना नई,
ना करीं चरणां तों मैनूं दूर,
तेरा दर छडक़े जाणा नई।।



नाम दा रंग चढा दे मैनूं,

डूबदा पार लगा लै मैनूं,
पांज्ज चोर जो मगर पये ने,
ओहनां कोलों बचा लै मैनूं,
नाम दा रंग चढा दे मैनूं,
डूबदा पार लगा लै मैनूं,
पांज्ज चोर जो मगर पये ने,
ओहनां कोलों बचा लै मैनूं,
हो तेरे दर दा मीठा अमृत छड्ड के,
दर दा मीठा अमृत छड्ड के,
ज़हर मै खाणा नई,
ना करीं चरणां तों मैनूं दूर,
तेरा दर छडक़े जाणा नई।।



सतगुरु तेरी बन्दगी करनी,

ताईयों तेरे टिक्केयां चरनी,
तेरे दर विच का दा घाटा,
तुइयों साडी रक्षा करनी,
सतगुरु तेरी बन्दगी करनी,
ताईयों तेरे टिक्केयां चरनी,
तेरे दर विच का दा घाटा,
तुइयों साडी रक्षा करनी,
कहे दास निमाणा दाता तैनूं,
दास निमाणा दाता तैनूं,
दिलों भुलाना नई,
ना करीं चरणां तों मैनूं दूर,
तेरा दर छडक़े जाणा नई।।



तेरे सोहणे दर नुं छड सतगुरु,

साडा होर ठिकाणा नई,
ना करीं चरणां तों मैनूं दूर,
तेरा दर छडक़े जाणा नई।।

प्रेषक – विनोद गर्ग।


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें