तेरे ही भरोसे नैया छोड़ी रे कन्हैया भजन लिरिक्स

तेरे ही भरोसे नैया,
छोड़ी रे कन्हैया,
अब देर न कर,
नैया पडी है भँवर,
मेरे साँवरिया साँवरिया,
तेरे ही भरोसे नईया,
छोड़ी रे कन्हैया।।

तर्ज – कौन दिशा में लेके।



तूफानों से लड़ते लड़ते,

टूट गयी पतवार हो,
कौन निभाये साथ यहां पर,
किससे करु पुकार हो,
करुणासागर हे नटनागर,
करुणासागर हे नटनागर,
कोई नही दातार हो,
दरिया है गहरा,
छाया घोर अंधेरा,
अब देर न कर,
नैया पडी है भँवर,
मेरे साँवरिया साँवरिया,
तेरे ही भरोसे नईया,
छोड़ी रे कन्हैया।।



तुमसा माझी और ना कोई,

तुम दींनो के नाथ हो,
मुझ निर्बल का हे मनमोहन,
आकर पकड़ो हाथ हो,
जिनका ना कोई धीरज खोई,
जिनका ना कोई धीरज खोई,
उनके तुम ही साथ हो,
सुनोजी कन्हाई,
घड़ी विपदा की आई,
अब देर न कर,
नैया पडी है भँवर,
मेरे साँवरिया साँवरिया,
तेरे ही भरोसे नईया,
छोड़ी रे कन्हैया।।



गज की खातिर दौड़े आए,

वैसे आओ आज हो,
द्रुपद सूता की तुमने आकर,
जैसे राखि लाज हो,
‘आलूसिंह’ मेरी लाज है तेरी,
‘आलूसिंह’ मेरी लाज है तेरी,
तुम ही मेरे नाज़ हो,
संकट हारी सांवर,
शरण तुम्हारी,
अब देर न कर,
नैया पडी है भँवर,
मेरे साँवरिया साँवरिया,
तेरे ही भरोसे नईया,
छोड़ी रे कन्हैया।।



तेरे ही भरोसे नैया,

छोड़ी रे कन्हैया,
अब देर न कर,
नैया पडी है भँवर,
मेरे साँवरिया साँवरिया,
तेरे ही भरोसे नईया,
छोड़ी रे कन्हैया।।

Singer / Upload – Mukesh Kumar Meena
9660159589


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें