प्रथम पेज गणेश भजन तेरे दर्शन को गणराजा तेरे दरबार आए है भजन लिरिक्स

तेरे दर्शन को गणराजा तेरे दरबार आए है भजन लिरिक्स

तेरे दर्शन को गणराजा,

दोहा – नसीब वालों को हे गणराजा,
तेरा दीदार होता है,
जिसपे होता है नजरेकरम,
उसका बेडा पार होता है।

तेरे दर्शन को गणराजा,
तेरे दरबार आए है,
तेरे दरबार आए है,
तेरे दरबार आए है,
तेरे दरशन को गणराजा,
तेरे दरबार आए है।।

तर्ज – अगर श्यामा जु ना होती।



सुना है मैंने गणराया,

तुम्हे लड्डू ही भाते है,
सुना है मैंने गणराया,
तुम्हे लड्डू ही भाते है,
तुम्हारे भोग में भगवन,
हाँ लड्डू साथ लाए है,
तेरे दरशन को गणराजा,
तेरे दरबार आए है।।



तुम्हे दूर्वा सदा चढ़ती,

लोग ऐसा सदा करते,
तुम्हे दूर्वा सदा चढ़ती,
लोग ऐसा सदा करते,
बेल पाती के संग संग में,
हाँ दूर्वा हार लाए है,
तेरे दरशन को गणराजा,
तेरे दरबार आए है।।



तुम्हे वस्त्रों में पीताम्बर,

पहनते हमने देखा है,
तुम्हे वस्त्रों में पीताम्बर,
पहनते हमने देखा है,
की दरजी से भी सिलवाकर,
तुम्हारे वस्त्र लाए है,
तेरे दरशन को गणराजा,
तेरे दरबार आए है।।



सुना है ताजे फूलों के,

तुम्हे गजरे सुहाते है,
सुना है ताजे फूलों के,
तुम्हे गजरे सुहाते है,
बागों से ‘सुमन योगी’,
सुगन्धित फुल लाए है,
तेरे दरशन को गणराजा,
तेरे दरबार आए है।।



तेरे दर्शन को गणराजा,

तेरे दरबार आए है,
तेरे दरबार आए है,
तेरे दरबार आए है,
तेरे दरशन को गणराजा,
तेरे दरबार आए है।।

स्वर – शहनाज़ अख्तर।
ये भी देखें – मोरे अंगना गजानन आये री।


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।