रमक झमक कर आवो गजानन भजन लिरिक्स

रमक झमक कर आवो गजानन
श्लोक – सदा भवानी दाहिनी, सनमुख रहे गणेश,

पांच देव रक्षा करे, ब्रम्हा विष्णु महेश।।

रमक झमक कर आवो गजानन,
रमक-झमक कर आवो गजानन।।



आप भी आवो देवा रिद्धि रिद्धि लावो,

आप भी आवो देवा रिद्धि सिद्धि लावो,
सभा में रंग बरसावो गजानन,
रमक-झमक कर आवो गजानन।।



सूंड सूंडालो बाबो दुंद दूंदालो,

सूंड सूंडालो बाबो दुंद दूंदालो,
मोदक भोग लगावो गजानन,
रमक-झमक कर आवो गजानन।।



पारवती के देवा पुत्र कहावो,

पारवती के देवा पुत्र कहावो,
शिवजी के राज दुलारे गजानन,
रमक-झमक कर आवो गजानन।।



शीश पे थारे मुकुट विराजे,

शीश पे थारे मुकुट विराजे,
गले पुष्पन की माला गजानन,
रमक-झमक कर आवो गजानन।।


राम और लक्ष्मण थाने निशदिन ध्यावे,
चरणों में शीश नवावे गजानन,
रमक झमक कर आवो गजानन।।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें