सिमरु प्रथम नित तुमको गणेशा राजस्थानी गणेश वंदना

सिमरु प्रथम नित तुमको गणेशा राजस्थानी गणेश वंदना

सिमरु प्रथम नित तुमको गणेशा,
सिमरु प्रथम नित तुमको गुणेशा,
दुर करो मम सकल कलेशा,
सिमरु प्रथम नित तुमको गुणेशा।।



माता तुम्हारी महा माया गीरजा,

पिता तुम्हारे पारि ब्रह्म महेशा,
सिमरु प्रथम नित तुमको गुणेशा,
दुर करो मम सकल कलेशा,
सिमरु प्रथम नित तुमको गुणेशा।।



देवता दानव मानव सब सिमरे,

ऋशी मुनी थोने भजे सब शैषा,
सिमरु प्रथम नित तुमको गुणेशा,
दुर करो मम सकल कलेशा,
सिमरु प्रथम नित तुमको गुणेशा।।



क्या गुणगान करे सब तेरा,

अल्पमती नही रखणा विशेषा,
सिमरु प्रथम नित तुमको गुणेशा,
दुर करो मम सकल कलेशा,
सिमरु प्रथम नित तुमको गुणेशा।।



अचलुराम पर कृपा किजो,

काट दिजो मारा सर्व कलेशा,
सिमरु प्रथम नित तुमको गुणेशा,
दुर करो मम सकल कलेशा,
सिमरु प्रथम नित तुमको गुणेशा।।



सिमरु प्रथम नित तुमको गणेशा,

सिमरु प्रथम नित तुमको गुणेशा,
दुर करो मम सकल कलेशा,
सिमरु प्रथम नित तुमको गुणेशा।।

प्रेषक – देव राजपुरोहित नाथोणी जेरण


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें