प्रथम पेज कृष्ण भजन सेवकियो अरज लगावे है म्हने बेगो सो बुलाले खाटूधाम लिरिक्स

सेवकियो अरज लगावे है म्हने बेगो सो बुलाले खाटूधाम लिरिक्स

सेवकियो अरज लगावे है,
सेवकियों अरज लगावे है,
म्हने बेगो सो बुलाले खाटूधाम,
सांवरा याद सतावे है।।

तर्ज – घुंघटीयो आड़े आ गयो जी।



कईये दिना से मनड़ो भटके,

कईये दिना से मनड़ो भटके,
लम्बी जुदाई बहुत ही खटके,
लम्बी जुदाई बहुत ही खटके,
आंखड़ल्या नीर बहावे है,
आंखड़ल्या नीर बहावे है,
म्हने बेगो सो बुलाले खाटूधाम,
सांवरा याद सतावे है।।



रात्यु तारा गिण गिण काटू,

रात्यु तारा गिण गिण काटू,
उड़ के कइया आऊं खाटू,
उड़ के कइया आऊं खाटू,
यो जिवड़ो छटपटावे है,
यो जिवड़ो छटपटावे है,
म्हने बेगो सो बुलाले खाटूधाम,
सांवरा याद सतावे है।।



करले सुनाई ओ मनगरिया,

करले सुनाई ओ मनगरिया,
श्याम तेरा तो दिल है दरिया,
श्याम तेरा तो दिल है दरिया,
तू से की आस पुरावे है,
तू से की आस पुरावे है,
म्हने बेगो सो बुलाले खाटूधाम,
सांवरा याद सतावे है।।



खिंच ले डोरी दरश दिखा दे,

खिंच ले डोरी दरश दिखा दे,
‘बिन्नू’ बोले ना को प्यादे,
यो चरणा में शीश नमावे है,
यो चरणा में शीश नमावे है,
म्हने बेगो सो बुलाले खाटूधाम,
सांवरा याद सतावे है।।



सेवकियो अरज लगावे है,

सेवकियों अरज लगावे है,
म्हने बेगो सो बुलाले खाटूधाम,
सांवरा याद सतावे है।।

स्वर – विकास रुईया जी।


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।