ओल्यू आप री आवे मारा सतगुरु याद आपकी आवे जी

ओल्यू आप री आवे मारा सतगुरु,
याद आपकी आवे जी,
याद करू जद रेवो हिरदा में,
पल पल याद सतावे जी।।



चेत में चिंता गणि लागी,

गुरु बिना कोन मिटावे जी,
ओर दवाई काम नही आवे,
शब्दा से रोग कट जावे जी।।



बैशाख में भंवरा ज्यूँ भटकूँ,

बाग नजर नही आवे जी,
खिल रिया फूल छिटक री कलिया,
भंवर वासना लेवे जी।।



जेठ महीनों ऋतु गर्मी की,

जल बिना जीव दुःख पावेजी,
आप गुरू जी मारे इंदर सामना,
अम्रत बूंद बरसावे जी।।



आसाढ़ में आशा गणि लागी,

पपयो शोर माचवे जी,
आप गुरु सा अम्रत बूंदा,
भर भर प्याला पावे जी।।



सावन में सायब घर आया,

सखिया मंगल गावे जी,
सोना का थाल लिया दोई हाथा,
मोतिया कलश सजावे जी।।



भादवो भक्ति को महीनों,

गुरु बिना कोन बतावे जी,
धर्मदास जी री अर्ज विनती,
चरणों मे शीश नमावे जी।।



ओल्यू आप री आवे मारा सतगुरु,

याद आपकी आवे जी,
याद करू जद रेवो हिरदा में,
पल पल याद सतावे जी।।

भजन गायक – चम्पा लाल प्रजापति।
( मालासेरी डुंगरी ) 89479-15979


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

गुरु मोहे उबारो भवसागर अति भारो लिरिक्स

गुरु मोहे उबारो भवसागर अति भारो लिरिक्स

गुरु मोहे उबारो, भवसागर अति भारो, काम क्रोध मद लोभ मोह का, हो रियो जय जयकारो।। आशा तृष्णा नदियां बह रही, कहीं ना देखे किनारो, कहीं ना देखे किनारो, सत्य…

आशा भारतीजी आप बड़ा तपधारी भजन लिरिक्स

आशा भारतीजी आप बड़ा तपधारी भजन लिरिक्स

आशा भारतीजी आप बड़ा तपधारी, स्वामी कुल में जामो पायो, स्वामी कुल मे जामो पायो, वारी वारी जाऊँ बलिहारी ओ, आशा भारतीजी आप बडा़ तपधारी।। शिव की भक्ति आप कमाई,…

प्रकट्या प्रकट्या रे धरती पर माता गोगला भजन लिरिक्स

प्रकट्या प्रकट्या रे धरती पर माता गोगला भजन लिरिक्स

प्रकट्या प्रकट्या रे धरती पर, माता गोगला, कोई जामण जाला कुल, लिनो अवतार, मायड़ री गावु वार्ता, कोई जामण जाला कुल, लियो अवतार, मायड़ री गावु वार्ता, प्रगट्या प्रगट्या रे…

रतनो राइको बाबा पड़ियो कैद में भजन लिरिक्स

रतनो राइको बाबा पड़ियो कैद में भजन लिरिक्स

रतनो राइको बाबा, पड़ियो कैद में, बाबा ने अर्ज गुजारी रे, म्हारो राम रूखालो।। हुक्म दियो जद तुरन्त सिधायो, बाई सुगणा ने लेवण आयो, ओतो टोडड़ली ने दौड़ाई रे, म्हारो…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “ओल्यू आप री आवे मारा सतगुरु याद आपकी आवे जी”

  1. सही माने कर मनवार पिलायो जी सतगुरु जी प्रेम रतन पायो जी पूरा सामान तेरस पायो जी

    Reply

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे