संतो री महिमा कहाँ लग करू रे बड़ाई देसी भजन

संतो री महिमा,
कहाँ लग करू रे बड़ाई।

दोहा – शरणे आये री विनती,
प्रभु रखिये मेरी लाज,
संता सोरो राखजे,
ज्यू हरि राख्यो प्रह्लाद।
आज भी तेरी आस हैं,
तो कल भी तेरी आस,
आस तुम्हारी लग रही,
तो छटी बारहो मास।



संतो री महिमा,

कहाँ लग करू रे बड़ाई,
गुरु रे चरण में मुक्ति मेवा,
हंस अमर हो जाई,
सन्त सायब रो एक ही रूप है,
प्रगट देह धराई,
जिण घर सन्त पावणा आवे,
वारी सफल कमाई,
सन्तो री महिमा,
कहाँ लग करू रे बड़ाई।।



हरख प्रेम से सेवा करना,

तन मन शीश चढ़ाई,
लाखो जीव सन्ता रे शरणे,
पापीयो ही मुक्ति पाई,
सन्तो री महिमा,
कहाँ लग करू रे बड़ाई।।



सन्तो से बेमुख हो चाले,

ज्यारी धिरक कमाई,
पापी नुगरा चोर सायब रा,
अंत नारकी में जाई रे,
सन्तो री महिमा,
कहाँ लग करू रे बड़ाई।।



सतगुरु शब्द अमीरस पायो,

मगन भयो मन माई,
जन्म मरण रीधूपी कल्पना,
पार लाग्यो ना आई,
सन्तो री महिमा,
कहाँ लग करू रे बड़ाई।।



नानक नाथ मिल्या गुरु पूरा,

सत की सेन लखाई,
कहे लादू नाथ सन्तो री मेहमा,
सत में बूंद समाई,
सन्तो री महिमा,
कहाँ लग करू रे बड़ाई।।



सन्तों री महिमा,

कहाँ लग करू रे बड़ाई,
गुरु रे चरण में मुक्ति मेवा,
हंस अमर हो जाई,
सन्त सायब रो एक ही रूप है,
प्रगट देह धराई,
जिण घर सन्त पावणा आवे,
वारी सफल कमाई,
सन्तो री महिमा,
कहाँ लग करू रे बड़ाई।।

प्रेषक – रामेश्वर लाल पँवार।
आकाशवाणी सिंगर।
9785126052


https://youtu.be/B-r7Q6p3TvQ

इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

बरसो मारा गुडला बादल बरसों सवाया जी

बरसो मारा गुडला बादल बरसों सवाया जी

बरसो मारा गुडला बादल, बरसों सवाया जी, बरसो गायो नवते, बरसो सवाया जी।। अरे खोलो कडीयो रा ताला, डालो रूपैया जी, बरसों मारा गुडला बादल, बरसों सवाया जी।। अरे गायो…

सुगना पुकारे रामाराज ने सुगना री पुकार लिरिक्स

सुगना पुकारे रामाराज ने सुगना री पुकार लिरिक्स

सुगना पुकारे रामाराज ने, सुगना पुकारे रामाराज ने, दोहा – बीरा मारा रामदेव, रानी नेतल रा भरतार, आ सुगना री विनती, बीरा एकर लेवन आव। केतो आजा बीरा रामदेव, नितर…

ढेलडी मार्ग में क्यु ब्याई थारा बचीया बिलड ले जाई

ढेलडी मार्ग में क्यु ब्याई थारा बचीया बिलड ले जाई

ढेलडी मार्ग में क्यु ब्याई, दोहा: अजगर करे नी चाकरी, तो पंछी करे नि काम, दास मलुका यु कहे, सब के दाता राम। ढेलडी मार्ग में क्यु ब्याई, थारा बचीया…

मारवाड़ रो बाणीयो जायरे समंद री तीर रे

मारवाड़ रो बाणीयो जायरे समंद री तीर रे

मारवाड़ रो बाणीयो, जायरे समंद री तीर रे, मिलीया धनी रामदेव, लुल लुल लागे पाव रे, अरे मारवाड़ रो बाणीयों, जायरे समंद री तीर रे।। अरे लुल लुल लागे पाव…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे