रे मनवा प्रेम जगत का सार भजन लिरिक्स

रे मनवा प्रेम जगत का सार,
प्रेम पुजारिन राधे रानी,
कृष्ण प्रेम अवतार,
रे मनवा प्रेम जगत का सार।।



प्रेम की मुरली, प्रेम की जमुना,

प्रेम ही राधे, प्रेम ही कृष्णा,
एक दूजे के ये अनुरागी,
सब में जगायें प्रेम की तृष्णा,
प्रेम में डूबे प्राण करत हैं,
प्रेम की जय जयकार,
रे मनवा प्रेम जगत का सार।।



प्रेम डगर पर चलते चलते,

भक्ति की पावन नदिया आये,
भक्ति की नदिया बहते-बहते,
प्रेम के सागर में मिल जाये,
भक्ति के दोनो ओर प्रेम है,
भक्त खड़े मझधार,
रे मनवा प्रेम जगत का सार।।



रे मनवा प्रेम जगत का सार,

प्रेम पुजारिन राधे रानी,
कृष्ण प्रेम अवतार,
रे मनवा प्रेम जगत का सार।।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

पिंजरा तोड़ चला जागा भाई दुनिया खड़ी लखावे भजन लिरिक्स

पिंजरा तोड़ चला जागा भाई दुनिया खड़ी लखावे भजन लिरिक्स

पिंजरा तोड़ चला जागा, भाई दुनिया खड़ी लखावे, दुनिया खड़ी लखावे, रे भाई दुनिया खड़ी लखावे, पींजरा तोड़ चला जागा, भाई दुनिया खड़ी लखावे।। तर्ज – बता मेरे यार सुदामा…

ऐसा है मेरे श्री हरी का नाम कैसे उनका करूँ गुणगान लिरिक्स

ऐसा है मेरे श्री हरी का नाम कैसे उनका करूँ गुणगान लिरिक्स

ऐसा है मेरे श्री हरी का नाम, कैसे उनका करूँ गुणगान, बांकी कोई न करुणा निधान।। निश्छल भक्ति तेरी हरदम होती है, लेते हैं जब परीछा तब तब रोती है,…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “रे मनवा प्रेम जगत का सार भजन लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे