राम के भजन बिना लग है ना पार भजन लिरिक्स

राम के भजन बिना लग है ना पार,
ऐ मनुआ प्यारे श्री राम को सुमर ले।।



जोड़ी माया कोडी कोड़ी,

धन दौलत से भर लओ तिजोरी,
बड़े बड़े महल करे रे तैयार,
ऐ मनुआ प्यारे श्री राम को सुमर ले।।



जेके लाने फिरत दीवाना,

साथ न तेरे कुछ भी जाना,
झूठे नाते सब झूठो संसार,
ऐ मनुआ प्यारे श्री राम को सुमर ले।।



चौरासी से भटक के आओ,

फिर भी राम नाम न गाओ,
बीबी और बच्चों का पाकर के प्यार,
ऐ मनुआ प्यारे श्री राम को सुमर ले।।



हरि से नेह लगाले प्यारे,

वे ही भव से तारन हारे,
“स्नेही” बनके ले जीवन सुधार,
ऐ मनुआ प्यारे श्री राम को सुमर ले।।



राम के भजन बिना लग है ना पार,

ऐ मनुआ प्यारे श्री राम को सुमर ले।।

लेखक / गायक / प्रेषक –
श्री नारायण सिंह लोधी “स्नेही”
इंद्राणा मझोली (जबलपुर)
मोबाइल नंबर- 9893838473


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें