राम कहने से तर जाएगा पार भव से उतर जायेगा भजन लिरिक्स

राम कहने से तर जाएगा,
पार भव से उतर जायेगा।। 



उस गली होगी चर्चा तेरी,
जिस गली से गुजर जायेगा।
राम कहने से तर जाएगा।। 



बड़ी मुश्किल से नर तन मिला,
कल ना जाने किधर जाएगा।
राम कहने से तर जाएगा।। 



अपना दामन तो फैला ज़रा,
कोई दातार भर जाएगा।
राम कहने से तर जाएगा।। 



सब कहेंगे कहानी तेरी,
जब इधर से उधर जाएगा।
राम कहने से तर जाएगा।। 



याद आएगी चेतन तेरी,
काम ऐसा जो कर जाएगा।
राम कहने से तर जाएगा।। 



राम  कहने  से  तर  जाएगा,
कल ना जाने किधर जाएगा,
जिस गली से गुजर जायेगा,
पार भव से उतर जायेगा।। 


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें