राजा महला सु नीचा उतरे ओ भईडा भजन लिरिक्स

राजा महला सु नीचा उतरे ओ भईडा,

दोहा – जननी जणे तो ऐसा जण,
के दाता के शूर,
नही तर रीजे बांजनी,
तू मती गमाजे नूर।

राजा महला सु नीचा उतरे ओ भईडा,
छोड्यो लोयोना गढ रो राज जे ए हा,
रानी मेनागर नीची उतरे ओ भईडा,
माथे उचाया नैना बाल जे ए हा।।



अरे आडी फिरे ने प्रजा पूचीयो ओ राजा,

क्यु थे जावो परदेश जे ए हा,
अरे आडी फिरे ने प्रजा पूचीयो ओ राजा,
क्यु थे जावो परदेश जे ए हा,
सत्य धर्म रे कारणे ओ भईडा,
छोड्यो लोयोना गढ रो साथ जे ए हा।।



घर घर चंदो मेतो देवसा ओ राजा,

देवा ब्रहामण ने मेतो दान जे ए हा,
एसो सतवादी राजा नही मिले ओ माने,
मत न थे जावो परदेश जे ए हा।।



मगरे मगरे तो रोवे मोरीया ओ राजा,

धोरो मे कूके धोली ढेल जे ए हा,
मगरे मगरे तो रोवे मोरीया ओ राजा,
धोरो मे कूके धोली ढेल जे ए हा,
खाईजो पिजो ने माया मोनजो मारी प्रजा,
लेजो हरी जी वालो नाम जे ए हा,
अरे खाईजो पिजो ने माया मानजो मारी प्रजा,
लेजो हरी जी वालो नाम जे ए हा।।



रात गई ने दिनडो उगीयो ओ राजा,

पोछ्या है जमुना जी री तीर जे ए हा,
रात गई ने दिनडो उगीयो ओ राजा,
पोछ्या है जमुना वाली तीर जे ए हा,
हाथ जोडेने राजा बोलीया,
जमुना जी जानो माने पेलोडी तीर जे ए हा,
हाथ जोडेने राजा बोलीया जमुना जी,
जानो माने पेलोडी तीर जे ए हा।।



अरे जड जाई फुलडा ने रे जाई वासना रे,

जुग मे वेला सतीयो रो अमर नाम जे ए हा,
अरे जड जाई फुलडा ने रे जाई वासना रे,
जुग मे वेला सतीयो रो अमर नाम जे ए हा।।



राजा महला सु नीचा उतरे ओ भईडा,

छोड्यो लोयोना गढ रो राज जे ए हा,
रानी मेनागर नीची उतरे ओ भईडा,
माथे उचाया नैना बाल जे ए हा।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें