प्रेम से लगाओ रे गुलाल कान्हा को आज होली में लिरिक्स

प्रेम से लगाओ रे गुलाल,
कान्हा को आज होली में,
कान्हा जी को होली में,
कान्हा जी को होली में,
धूम मचाओ रे धमाल,
कान्हा के संग होली में,
प्रेम सें लगाओं रे गुलाल,
कान्हा को आज होली में।।

तर्ज – होलिया में उड़े रे गुलाल श्याम तेरे।



बरसाने से निकली टोली,

कान्हा संग खेलेंगे होली,
रंग देंगे कान्हा को आज,
देखो रे देखो होली में,
धूम मचाओ रे धमाल,
कान्हा के संग होली में,
प्रेम सें लगाओं रे गुलाल,
कान्हा को आज होली में।।



ग्वाल बाल भी करे तैयारी,

बच ना पाए सखियाँ सारी,
छोड़ेंगे इनको ना आज,
देखो रे देखो होली में,
धूम मचाओ रे धमाल,
कान्हा के संग होली में,
प्रेम सें लगाओं रे गुलाल,
कान्हा को आज होली में।।



बच ना पाओगे कान्हा हमसे,

रंगने का वादा है तुमसे,
कितना ही छुप लो रे आज,
देखो रे देखो होली में,
धूम मचाओ रे धमाल,
कान्हा के संग होली में,
प्रेम सें लगाओं रे गुलाल,
कान्हा को आज होली में।।



राधा ने आवाज लगाई,

दौड्यो आयो कृष्ण कन्हाई,
प्रेम से रंग गई रे आज,
देखो रे देखो होली में,
धूम मचाओ रे धमाल,
कान्हा के संग होली में,
प्रेम सें लगाओं रे गुलाल,
कान्हा को आज होली में।।



प्रेम से लगाओ रे गुलाल,

कान्हा को आज होली में,
कान्हा जी को होली में,
कान्हा जी को होली में,
धूम मचाओ रे धमाल,
कान्हा के संग होली में,
प्रेम सें लगाओं रे गुलाल,
कान्हा को आज होली में।।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें