प्रेम नगर मत जा ए मुसाफिर भजन लिरिक्स

प्रेम नगर मत जा ए मुसाफिर,
प्रेम नगर मत जा,
प्रेम नगर मत जा मुसाफिर,
प्रेम नगर मत जा।।

तर्ज – हुस्न पहाड़ों का।



प्रेम नगर का पंथ तो कठिन है,

प्रेम नगर का पंथ तो कठिन है,
प्रेम नगर का पंथ तो कठिन है,
ऊँचा शिखर है ठिकाना, मुसाफिर,
प्रेम नगर मत जा।।



प्रेम नगर की गहरी है नदियाँ,

प्रेम नगर की गहरी है नदियाँ,
प्रेम नगर की गहरी है नदियाँ,
लाखो लोग डुबाना, मुसाफिर,
प्रेम नगर मत जा।।



प्रेम नगर की सुन्दर परियाँ,

प्रेम नगर की सुन्दर परियाँ,
प्रेम नगर की सुन्दर परियाँ,
लाखो लोग लुभाना, मुसाफिर,
प्रेम नगर मत जा।।



ब्रम्हा नन्द कहे कोइ विरला त्या पहुँचे,

ब्रम्हा नन्द कहे कोइ विरला त्या पहुँचे,
ब्रम्हा नन्द कहे कोइ विरला त्या पहुँचे,
पावे पद ये निरवाना, मुसाफिर,
प्रेम नगर मत जा।।



प्रेम नगर मत जा ए मुसाफिर,

प्रेम नगर मत जा,
प्रेम नगर मत जा मुसाफिर,
प्रेम नगर मत जा।।


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें