प्रभु के सिवा कहीं दिल ना लगाना भजन लिरिक्स

प्रभु के सिवा,
कहीं दिल ना लगाना,
नहीं तो पड़ेगा तुझे,
नहीं तो पड़ेगा तुझे,
आंसू बहाना,
प्रभू के सिवा,
कहीं दिल ना लगाना।।

तर्ज – परदेसियों से ना।



जो प्रभु का गुणगान किया है,

सच्चा जीवन वो ही जिया है,
सुमिरन के बल से तुझे,
सुमिरन के बल से तुझे,
मुक्ति है पाना,
प्रभू के सिवा,
कहीं दिल ना लगाना।।



बालापन गया आज जवां है,

बीत गया अब समय कहाँ है,
सोच समझ के,
सोच समझ के,
वक्त गंवाना,
प्रभू के सिवा,
कहीं दिल ना लगाना।।



आया जहाँ से वही फिर है जाना,

वहां साथ जाए ना पैसा खजाना,
पूछेगा तो क्या,
पूछेगा तो क्या,
करोगे बहाना,
Bhajan Diary Lyrics,
प्रभू के सिवा,
कहीं दिल ना लगाना।।



प्रभु के सिवा,

कहीं दिल ना लगाना,
नहीं तो पड़ेगा तुझे,
नहीं तो पड़ेगा तुझे,
आंसू बहाना,
प्रभू के सिवा,
कहीं दिल ना लगाना।।

स्वर – धीरज कांत जी।


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें