प्रथम पेज कृष्ण भजन नटखट ललना झूल रहा पलना कृष्ण भजन लिरिक्स

नटखट ललना झूल रहा पलना कृष्ण भजन लिरिक्स

नटखट ललना झूल रहा पलना,
यशोदा के अंगना रे,
खेल रहा ललना रे।।



आयी भादों महीने की,

रात अंधियारी,
जनम लियो कृष्णा रे,
यशोदा के अंगना रे,
नटखट ललना झुल रहा पलना,
यशोदा के अंगना रे,
खेल रहा ललना रे।।



रात है जनम अष्टमी वाली,

नाच मेरी बहना रे,
यशोदा के अंगना रे,
नटखट ललना झुल रहा पलना,
यशोदा के अंगना रे,
खेल रहा ललना रे।।



दर्शन को आए शिव कैलाशी,

मिट गई तृष्णा रे,
यशोदा के अंगना रे,
नटखट ललना झुल रहा पलना,
यशोदा के अंगना रे,
खेल रहा ललना रे।।



भीड़ लगी है नन्द के द्वारे,

देने बधईया रे,
यशोदा के अंगना रे,
नटखट ललना झुल रहा पलना,
यशोदा के अंगना रे,
खेल रहा ललना रे।।



सज गई सारी गोकुल नगरी,

बाजे चूड़ी कंगना रे,
यशोदा के अंगना रे,
नटखट ललना झुल रहा पलना,
यशोदा के अंगना रे,
खेल रहा ललना रे।।



नटखट ललना झूल रहा पलना,

यशोदा के अंगना रे,
खेल रहा ललना रे।।

Singer – Moksh Gulati


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।