प्रथम पेज जैन भजन नाकोड़ा के मंदिर में भक्त जो भी आता है भजन लिरिक्स

नाकोड़ा के मंदिर में भक्त जो भी आता है भजन लिरिक्स

नाकोड़ा के मंदिर में,
भक्त जो भी आता है,
भेरूजी से रिश्ता वो,
पल में जोड़ जाता है।।

तर्ज – आदमी मुसाफिर है।



धाम नाकोड़ा का जग में निराला,

धाम नाकोड़ा का जग में निराला,
जाये जो भक्त वो है किस्मतवाला,
जाये जो भक्त वो है किस्मतवाला,
फिर वो धाम हर बार आता है,
नाकोड़ा के मंदिर मे,
भक्त जो भी आता है।।



घर घर में सेवा पूजा तुम्हारी,

घर घर में सेवा पूजा तुम्हारी,
तुमसे ही रोशन दुनिया हमारी,
तुमसे ही रोशन दुनिया हमारी,
इनकी शरण में जो जाता है,
नाकोड़ा के मंदिर मे,
भक्त जो भी आता है।।



नाकोड़ा के मंदिर में,

भक्त जो भी आता है,
भेरूजी से रिश्ता वो,
पल में जोड़ जाता है।।

गायक – दिलीप बाफना।
लेखक – दिलीप सिंह सिसोदिया ‘दिलबर’।
नागदा जक्शन म.प्र. मो. 9907023365


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।