मुझे नहीं मालूम हुआ ये कैसे सारा काम जी भजन लिरिक्स

मुझे नहीं मालूम हुआ ये,
कैसे सारा काम जी,
मैं तो एक जरिया हूँ,
कर्ता धर्ता है श्री राम जी,
मैं तो एक जरिया हूँ,
कर्ता धर्ता है श्री राम जी।।

तर्ज – भला किसी का कर न सको।



बिना पंख और बिना यान मैं,

कैसे सागर पार गया,
कैसे बच गया सुरसा से,
कैसे निशिचरी को मार गया,
प्रभु इच्छा से दुष्ट लंकिनी,
पहुँच गई यम धाम जी,
मैं तो एक जरिया हूँ,
कर्ता धर्ता है श्री राम जी।।



माँ सिता के दर्शन करके,

मिटी मेरी चिंता सारी,
वृक्षों पर फल देखके मैया,
मुझको भूख लगी भारी,
भूख मिटाने की खातिर,
वहाँ करना पड़ा संग्राम जी,
मैं तो एक जरिया हूँ,
कर्ता धर्ता है श्री राम जी।।



युद्ध में मर गए कुछ सेनिक,

और रावण का एक पुत्र मरा,
मेघनाद ने बाँध मुझे,
रावण की सभा में पेश करा,
मेरी पूछ जलाने का वहाँ,
खेल हुआ सरेआम जी,
मैं तो एक जरिया हूँ,
कर्ता धर्ता है श्री राम जी।।



जतन कर रहा था मैं तो वहाँ,

अपनी पूंछ बुझाने का,
मुझको दोषी मान लिया,
रावण की लंका जलाने का,
बाल एक नही जला पूंछ का,
लंका जली तमाम जी,
मैं तो एक जरिया हूँ,
कर्ता धर्ता है श्री राम जी।।



पूंछ बची और जान बची,

प्रभु ने मुझ पर अहसान किया,
अजर अमर होने का मुझे,
माँ सिता ने वरदान दिया,
काम किया सब प्रभु राम ने,
अमर हुआ हनुमान जी,
मैं तो एक जरिया हूँ,
कर्ता धर्ता है श्री राम जी।।



मुझे नहीं मालूम हुआ ये,

कैसे सारा काम जी,
मैं तो एक जरिया हूँ,
कर्ता धर्ता है श्री राम जी,
मैं तो एक जरिया हूँ,
कर्ता धर्ता है श्री राम जी।।

स्वर – राकेश जी काला।


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

दरबार हजारो है तुझ सा दरबार कहाँ भजन लिरिक्स

दरबार हजारो है तुझ सा दरबार कहाँ भजन लिरिक्स

दरबार हजारो है, तुझ सा दरबार कहाँ, बजरंग सा देव भला, हमें मिलता और कहाँ, दरबार हजारो हैं, तुझ सा दरबार कहाँ।। तर्ज – ऐ मेरे दिल ए नादाँ। तेरे…

है अनुपम जिसकी शान उसको कहते है हनुमान भजन लिरिक्स

है अनुपम जिसकी शान उसको कहते है हनुमान भजन लिरिक्स

है अनुपम जिसकी शान, उसको कहते है हनुमान, अजी सुनो लगाकर कान, सुनो लगाकर कान, उसको कहते है हनुमान, है अनूपम जिसकी शान, उसको कहते है हनुमान।। राजा राम की…

सुनो मेरे बजरंगी सभी के हो तुम संगी भजन लिरिक्स

सुनो मेरे बजरंगी सभी के हो तुम संगी भजन लिरिक्स

सुनो मेरे बजरंगी, सभी के हो तुम संगी, करना हमारा बेड़ा पार जी, तुम बिना मेरा यहां कोई नहीं जी, तुमको मैं ढूंढा प्रभु हर कहीं जी, राह बता दो…

वीर बली हनुमान थारे ह्रदय सियाराम भजन लिरिक्स

वीर बली हनुमान थारे ह्रदय सियाराम भजन लिरिक्स

वीर बली हनुमान, थारे ह्रदय सियाराम, थे तो भक्तां रा कारज सारो जी, प्यारा लागो बजरंगी।। प्यारो लागे बाबा थारो मंदरियो, थारी ध्वजा फरुके असमान जी, प्यारा लागो बजरंगी, वीर…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे