मिलन आज तक था हमारा तुम्हारा रही ज़िन्दगी तो मिलेंगे दोबारा

मिलन आज तक था हमारा तुम्हारा,
रही ज़िन्दगी तो मिलेंगे दोबारा,
रही ज़िन्दगी तो मिलेंगे दोबारा,
मिलन आज तक था हमारा तुम्हारा।।



अरमानो के दिप जले है,

हमको सच्चे भक्त मिले है,
फिर कब मिलेगा ऐसा नजारा,
रही ज़िन्दगी तो मिलेंगे दोबारा,
मिलन आज तक था हमारा तुम्हारा।।



सब भक्तो से मेरा कहना,

भूल चूक की माफ़ी देना,
तुमसे बिछुड़ना ना हमको गवारा,
रही ज़िन्दगी तो मिलेंगे दोबारा,
मिलन आज तक था हमारा तुम्हारा।।



कथा श्रवण को भूल ना जाना,

प्रभु चरणों में ध्यान लगाना,
इसी से बनेगा मुकद्दर तुम्हारा,
रही ज़िन्दगी तो मिलेंगे दोबारा,
मिलन आज तक था हमारा तुम्हारा।।



मिलन आज तक था हमारा तुम्हारा,

रही ज़िन्दगी तो मिलेंगे दोबारा,
रही ज़िन्दगी तो मिलेंगे दोबारा,
मिलन आज तक था हमारा तुम्हारा।।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें