मेरी सुरता सुहागण नार पिये ने किया भूल गई लिरिक्स

मेरी सुरता सुहागण नार,
पिये ने किया भूल गई।

दोहा – निवण बड़ी संसार में,
ओर नहीं निवे सो नीच,
निवे नदी रो गुदलो,
रेव नदी के बीच।
अरे निवे अंबा अमली,
ओर निवे दाड़मदाख,
इरड बिचारा क्या निवे,
जारी ओछी कहीजे जात।
शशि बिना सुनी रेण,
ज्ञान बिना हिरदा सुना,
गज सुना बीन दांत,
नीर बिना सागर सुना,
कुल सुना बीन पुत।
पात बिना तरवर सुना,
घटा बिना सुनी दामिनी,
बेताल कहे सुन विक्रमा।
घर सुनो बिन कामनी,
अरे शशि ने तारे रेन,
ज्ञान ने हिरदो तारे,
गज ने तारे दंत,
नीर ने सागर तारे,
अरे कुल ने तारे पूत,
पात ने तरुवर तारे,
घटा ने तारे दामिनी,
बेताल के सुण विक्रमा,
घर ने तारे कामनी।



मेरी सुरता सुहागण नार,

पिये ने किया भूल गई।।



सदा संग रहती पीवरिये मे,

पीवरीये रो लोग,
पूर्व ली पुण्याई सेती,
आय मिलो संजोग,
पिये ने किया भुल गई,
अरे मेरी सुरता सुहागन नार,
पिये ने किया भूल गई।।



पीवरियो मतलब रो घर जी,

स्वार्थ को संसार,
अरे ना कोई तेरा ना तू किसकी,
झूठा करती प्यार,
पिये ने किया भुल गई,
अरे मेरी सुरता सुहागन नार,
पिये ने किया भूल गई।।



गुरु गम गेणो पहर सुहागण,

सज सोलह सिंगार,
नाय धोय के चलो रे ठाठ से,
कद मिल सी भरतार,
पिये ने किया भुल गई,
अरे मेरी सुरता सुहागन नार,
पिये ने किया भूल गई।।



होय आधीण मिलो प्रीतम से,

धरो रे चरण में शीश,
बारूबालम समरथ तेरो,
गुना करलो बख्शीश,
पिये ने किया भुल गई,
अरे मेरी सुरता सुहागन नार,
पिये ने किया भूल गई।।



मेरी सुरता सुहागन नार,

पिये ने किया भूल गई।।

गायक – शोकत मिर काकडा़।
प्रेषक – सुभाष सारस्वा काकड़ा
9024909170


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

भालो भलके रे मोतीड़ा चमके रामदेवजी भजन लिरिक्स

भालो भलके रे मोतीड़ा चमके रामदेवजी भजन लिरिक्स

भालो भलके रे मोतीड़ा चमके, ओ लीला घोड़ा वाला बाबा, थारो भालो भलके।। अरे पेहलो पेहलो परचो माता, मैणादे ने दियो, उपणतो दूध ढबायो जटके, ओ लीला घोड़ा वाला बाबा,…

खम्मा खम्मा पीरजी रूनीचे रा धणी भजन लिरिक्स

खम्मा खम्मा पीरजी रूनीचे रा धणी भजन लिरिक्स

खम्मा खम्मा पीरजी रूनीचे रा धणी, वेगा आवो बापजी मै जोवा बाटडली, वेगा आवो बापजी वेगा आवो बापजी, मै जोवा बाटडली, खम्मा खम्मा पीरजी रुणिचे रा धणी, वेगा आवो बापजी…

म्हाने हिचकी आवे छाजे पर बोले कालो कागलो भजन लिरिक्स

म्हाने हिचकी आवे छाजे पर बोले कालो कागलो भजन लिरिक्स

म्हाने हिचकी आवे, छाजे पर बोले कालो कागलो, म्हाने श्याम बुलावे, याद करे है म्हारो सांवरो।। सोऊ तो सुपने दिखे जी, कोई बजा रह्यो है चंग, भक्ता सागे मिल रह्यो,…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “मेरी सुरता सुहागण नार पिये ने किया भूल गई लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे