मेरी नैय्या का तु किनारा है कृष्ण भजन लिरिक्स

मेरी नैय्या का तु किनारा है कृष्ण भजन लिरिक्स

मेरी नैय्या का तु किनारा है,
तर्ज- एक मुलाकात जरूरी है सनम 

​मेरे गिरधर तेरा सहारा है,
मेरी नैय्या का तु किनारा है।।



मेरी आँखों में तू मेरे ख्वाबो में तू,
मेरे दिल की धड़कन में है तू ही तू,
दीवाने तेरे प्यार में बड़ा ही बुरा हाल है,
ना होश ना ख्याल है,
मेरी नैय्या का तु किनारा है।।



मेरी आखो मे जले तेरे ख्वाबो के दिये,

कितनी बेचेन हु मै श्याम से मिलने के लिये, 
मेरे प्यारे कान्हा तु जो एकबार मिले, 
चेन आ जाये मुझे जो तेरा दीदार मीले,
मसीहा मेरे दुआ दे मुझे,
करु मे क्या बता दे मुझे,
दिवाने तेरी चाह मे बड़ा हि बुरा हाल है, 
खड़ी हूँ तेरी राह मे ना होश ना ख्याल है, 
मेरी नैय्या का तु किनारा है।। 



आई अरदास लेकर,

मन मे विश्वास लेकर,
झोली भर दे तु मेरी,  
आई हु आस लेकर, 
दिवाने तेरी चाह मे बड़ा हि बुरा हाल है, 
खड़ी हूँ तेरी राह मे ना होश ना ख्याल है, 
मेरी नैय्या का तु किनारा है।। 



​मेरे गिरधर तेरा सहारा है,

मेरी नैय्या का तु किनारा है।। 

स्वर – अलका जी शर्मा।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें