मेरे सीने में बसे है जानकी संग राम जी भजन लिरिक्स

मेरे सीने में बसे है,
जानकी संग राम जी,
मैं जहाँ देखूं नजर,
आते है मुझको राम जी,
मेरे सींने में बसे है,
जानकी संग राम जी।।

तर्ज – दिल से दिल भरकर ना देखि।



एक पल जो राम रूठे,

तो मैं जी ना पाऊंगा,
एक पल जो राम रूठे,
तो मैं जी ना पाऊंगा,
साँसे है धड़कन है मेरी,
जिंदगी है राम जी,
मेरे सींने में बसे है,
जानकी संग राम जी।।



हिरे मोती सोना चांदी,

मुझको कुछ ना चाहिए,
हिरे मोती सोना चांदी,
मुझको कुछ ना चाहिए,
मिल गया माणिक मुझे जो,
मिल गए है राम जी,
मेरे सींने में बसे है,
जानकी संग राम जी।।



डर नहीं जब काल से भी,

फिर किसी से क्यों डरूं,
डर नहीं जब काल से भी,
फिर किसी से क्यों डरूं,
मेरे संग ‘बलजीत’ हरपल,
रहते है मेरे राम जी,
मेरे सींने में बसे है,
जानकी संग राम जी।।



मेरे सीने में बसे है,

जानकी संग राम जी,
मैं जहाँ देखूं नजर,
आते है मुझको राम जी,
मेरे सींने में बसे है,
जानकी संग राम जी।।

Singer – Baljeet Singh


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें