प्रथम पेज कृष्ण भजन मेरे श्याम संवरना छोड़ो नजरिया लग जाएगी भजन लिरिक्स

मेरे श्याम संवरना छोड़ो नजरिया लग जाएगी भजन लिरिक्स

मेरे श्याम संवरना छोड़ो,
मेरे श्याम संवरना छोड़ो,
नजरिया लग जाएगी,
नजरिया लग जाएगी,
ओ छलिये।।

तर्ज – उड़े जब जब जुल्फे तेरी।



लटके यूँ लट घुंघराली,

लटके यूँ लट घुंघराली,
बिजुरिया गिर जाएगी,
बिजुरिया गिर जाएगी,
ओ छलिये।।



नैनो के खंजर मारे,

नैनो के खंजर मारे,
गुजरिया मर जाएगी,
गुजरिया मर जाएगी,
ओ छलिये।।



क्यों तान सुरीली छेड़े,

क्यों तान सुरीली छेड़े,
बाँसुरिया छल जाएगी,
बाँसुरिया छल जाएगी,
ओ छलिये।।



तेरी चाल बड़ी है नवाबी,

तेरी चाल बड़ी है नवाबी,
गगरिया हिल जाएगी,
गगरिया हिल जाएगी,
ओ छलिये।।



तुझे देख गुजरिया नाचे,

तुझे देख गुजरिया नाचे,
चुनरिया उड़ जाएगी,
चुनरिया उड़ जाएगी,
ओ छलिये।।



तोहे ‘हर्ष’ निरखते यूँ ही,

तोहे ‘हर्ष’ निरखते यूँ ही,
उमरिया ढल जाएगी,
उमरिया ढल जाएगी,
ओ छलिये।।



मेरे श्याम संवरना छोड़ो,

मेरे श्याम सवरना छोड़ो,
नजरिया लग जाएगी,
नजरिया लग जाएगी,
ओ छलिये।।


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।