प्रथम पेज कृष्ण भजन मेरे कान्हा तेरी नौकरी सबसे अच्छी है सबसे खरी भजन लिरिक्स

मेरे कान्हा तेरी नौकरी सबसे अच्छी है सबसे खरी भजन लिरिक्स

मेरे कान्हा तेरी नौकरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी,
मेरे कान्हा तेरी नोकरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी।।

तर्ज – जिंदगी की ना टूटे लड़ी।



जब से तेरा गुलाम हो गया,

तबसे मेरा भी नाम हो गया,
वरना औकात क्या थी मेरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी,
मेरे कान्हा तेरी नोकरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी।।



तनख्वाह भी कुछ कम नहीं,

कुछ मिले ना मिले गम नहीं,
ऐसी होगी कहां दूसरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी,
मेरे कान्हा तेरी नोकरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी।।



खुशनसीबी का जब गुल खिला,

तब मुझे यह तेरा दर मिला,
बन गई अब तो बिगड़ी मेरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी,
मेरे कान्हा तेरी नोकरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी।।



मेरे कान्हा तेरी नौकरी,

सबसे अच्छी है सबसे खरी,
मेरे कान्हा तेरी नोकरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी।।

गायक – देवी चित्रलेखा जी,
प्रेषक – शेखर चौधरी,
मो – 9074110618


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।