मेरे दर्द की कहानी मेरे सांवरे से पूछो भजन लिरिक्स

मेरे दर्द की कहानी,
मेरे सांवरे से पूछो,
होगी जान के हैरानी,
मेरे सांवरे से पूछो,
मेरे दर्दं की कहानी,
मेरे सांवरे से पूछो।।

तर्ज – तुझे भूलना तो चाहा।



थामी कलाई मेरी,

फिर गिरने ना दिया है,
था माला सा मैं टूटा,
खुद तार पो दिया है,
उस हार की कहानी,
जिसने नहीं है जानी,
मेरे सांवरे से पूछो,
मेरे दर्दं की कहानी,
मेरे सांवरे से पूछो।।



ऊँगली पकड़ के मेरी,

मुझे चलना है सिखाया,
था रास्ता भी मुश्किल,
फिर भी नहीं झुकाया,
उन राहों की कहानी,
जिसने नहीं है जानी,
मेरे सांवरे से पूछो,
मेरे दर्दं की कहानी,
मेरे सांवरे से पूछो।।



‘विक्की’ नहीं था काबिल,

फिर भी गले लगाया,
फर्श से उठा के कान्हा,
फिर अर्श पे बिठाया,
उस दूरी की कहानी,
जिसने नहीं है जानी,
मेरे सांवरे से पूछो,
मेरे दर्दं की कहानी,
मेरे सांवरे से पूछो।।



मेरे दर्द की कहानी,

मेरे सांवरे से पूछो,
होगी जान के हैरानी,
मेरे सांवरे से पूछो,
मेरे दर्दं की कहानी,
मेरे सांवरे से पूछो।।

Singer – Kamal Kanha Sukhwani


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें