मैं जहाँ जहाँ देखूं तुम दीखते हो साईं भजन लिरिक्स

मैं जहाँ जहाँ देखूं,
तुम दीखते हो साईं,
मेरे आस पास दिल में,
तुम रहते हो साईं,
मैं जहाँ जहाँ देखूँ,
तुम दीखते हो साईं।।

तर्ज – होंठों से छू लो तुम।



घर बार तुम्हारा है,

संसार तुम्हारा है,
तुमने जो दिया है ये,
परिवार तुम्हारा है,
हर रिश्ते नाते में,
तुम बसते हो साईं,
मेरे आस पास दिल में,
तुम रहते हो साईं,
मैं जहाँ जहाँ देखूँ,
तुम दीखते हो साईं।।



मेरी छोटी सी कुटिया,

मेरा छोटा सा घर है,
इस घर के अंदर भी,
एक छोटा सा मंदिर है,
मैं बड़भागी इसमें,
तुम रहते हो साईं,
मेरे आस पास दिल में,
तुम रहते हो साईं,
मैं जहाँ जहाँ देखूँ,
तुम दीखते हो साईं।।



शिरडी का गाँव तो बस,

ये एक बहाना है,
वैसे सारी दुनिया,
तेरा ठोर ठिकाना है,
दुःख दर्द सभी के तुम,
हर लेते हो साईं,
Bhajan Diary Lyrics,

मेरे आस पास दिल में,
तुम रहते हो साईं,
मैं जहाँ जहाँ देखूँ,
तुम दीखते हो साईं।।



मैं जहाँ जहाँ देखूं,

तुम दीखते हो साईं,
मेरे आस पास दिल में,
तुम रहते हो साईं,
मैं जहाँ जहाँ देखूँ,
तुम दीखते हो साईं।।

Singer – Neha, Shilpa Soni


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें