माँ शारदे कहाँ तू वीणा बजा रही हैं भजन लिरिक्स

माँ शारदे कहाँ तू,
वीणा बजा रही हैं।

श्लोक – सरस्वती नमस्तुभ्यं,
वरदे कामरूपिणी,
विद्यारम्भं करिष्यामि,
सिद्धिर्भवतु मे सदा।



माँ शारदे कहाँ तू,

वीणा बजा रही हैं,
किस मंजू ज्ञान से तू,
जग को लुभा रही हैं।।



किस भाव में भवानी,

तू मग्न हो रही है,
विनती नहीं हमारी,
क्यों माँ तू सुन रही है,
हम दीन बाल कब से,
विनती सुना रहें हैं,
चरणों में तेरे माता,
हम सर झुका रहे हैं,
हम सर झुका रहे हैं,
मां शारदे कहाँ तू,
वीणा बजा रही हैं,
किस मंजू ज्ञान से तू,
जग को लुभा रही हैं।।



अज्ञान तुम हमारा,

माँ शीघ्र दूर कर दो,
द्रुत ज्ञान शुभ्र हम में,
माँ शारदे तू भर दे,
बालक सभी जगत के,
सूत मात हैं तुम्हारे,
प्राणों से प्रिय है हम,
तेरे पुत्र सब दुलारे,
तेरे पुत्र सब दुलारे,
मां शारदे कहाँ तू,
वीणा बजा रही हैं,
किस मंजू ज्ञान से तू,
जग को लुभा रही हैं।।



हमको दयामयी तू,

ले गोद में पढ़ाओ,
अमृत जगत का हमको,
माँ शारदे पिलाओ,
मातेश्वरी तू सुन ले,
सुंदर विनय हमारी,
करके दया तू हर ले,
बाधा जगत की सारी,
बाधा जगत की सारी,
मां शारदे कहाँ तू,
वीणा बजा रही हैं,
किस मंजू ज्ञान से तू,
जग को लुभा रही हैं।।



माँ शारदे कहाँ तू,

वीणा बजा रही हैं,
किस मंजू ज्ञान से तू,
जग को लुभा रही हैं।।

स्वर – अनु दुबे।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

शान भक्तों की बढ़ाई है विराशनी माता भजन लिरिक्स

शान भक्तों की बढ़ाई है विराशनी माता भजन लिरिक्स

विराशनी देवी सिलौंडी वाली, अजब तेरो दरबार, शान भक्तों की बढ़ाई है, बैठी चतुर्भुज रूप में मैया, सुनती करुण पुकार, दान की महिमा गाई है।। विराशनी विपत हरैया, काल नाशनी…

मैया जी के चरणों में ठिकाना चाहिए भजन लिरिक्स

मैया जी के चरणों में ठिकाना चाहिए भजन लिरिक्स

मैया जी के चरणों में, ठिकाना चाहिए, बेटा जो बुलाए माँ को, आना चाहिए।। सुन लो ओ माँ के प्यारो, तुम प्रेम से पुकारो आएगी शेरावाली, जगदम्बे मेहरावाली, वो देर…

उड़ जा काले कावा उड़के मैया के भवन में जाना लख्खा जी भजन लिरिक्स

उड़ जा काले कावा उड़के मैया के भवन में जाना लख्खा जी भजन लिरिक्स

उड़ जा काले कावा,  उड़के मैया के भवन में जाना। तर्ज – उड़जा काले कावा उड़ जा काले कावा,  उड़के मैया के भवन में जाना, हो राहें तेरी तकते तकते,…

करता हूँ माँ मैं वंदन भजन लिरिक्स

करता हूँ माँ मैं वंदन भजन लिरिक्स

करता हूँ माँ मैं वंदन, मुझे ज्ञान का दो दर्पण, मेरी ज़िंदगी सँवर जाए, मेरी ज़िंदगी सँवर जाए, करता हूँ पुष्प अर्पण, मुझे दे दो मैया दर्शन, मेरा भाग्य भी…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

3 thoughts on “माँ शारदे कहाँ तू वीणा बजा रही हैं भजन लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे