लटको जोगी वालो छोड़ दे रे मारा जोगिया भजन लिरिक्स

लटको जोगी वालो छोड़ दे रे,
ऐ मारा जोगिया रे,
अशल फकीरी धार ओ।।



नाया धोया हरी ना मिले रे,

ऐ मारा जोगिया ऐ,
हर कोई लेवे रे नाय ऐ,
जल नावे जल री माछली रे ऐ,
मारा जोगिया रे ऐ,
नही अमरापुर जाय,
ऐ लटको जोगिया।।



राख लगाया हरी ना मिले रे,

ऐ मारा जोगिया ऐ,
हर कोई लेवे रे लगायी ऐ,
राख लगावे तन के गधेडीया रे,
ऐ मारा जोगिया ऐ,
नही अमरापुर जाय,
ऐ लटको जोगिया।।



ऐ जटा बधाईया हरी ना मिले रे,

ऐ मारा जोगिया ऐ,
हर कोई लेवे रे बधाई,
ऐ जटा बधावे वन का रीछडा रे,
ऐ मारा जोगिया,
नही अमरापुर जाय,
ऐ लटको जोगिया।।



मुड मुड़ाया हरी ना मिले रे,

ऐ मारा जोगिया,
ऐ हर कोई लेवे रे मुडाय,
छठे महिने मूडे गाढरी रे जोगीया,
वहा काऐ अमरापुर जाय,
ऐ लटको जोगिया।।



ऐ वडले जुलो गालियों रे,

ऐ मारा जोगिया ऐ,
तळे रे लगायी आग,
नाथ गुलाब गुरु बेठीया रे,
ऐ मारा जोगिया ऐ,
गावे है भवानी नाथ,
ऐ लटको जोगिया।।



लटको जोगी वालो छोड़ दे रे,

ऐ मारा जोगिया रे,
अशल फकीरी धार ओ।।

गायक – गजेंद्र राव जी।
प्रेषक – रतन पुरी गोस्वामी,
सावलीया खेडा, 8290907236


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें