लाल देह और लाल है चोला मुखड़ा भोला भाला भजन लिरिक्स

लाल देह और लाल है चोला,
मुखड़ा भोला भाला,
ऐसे बजरंग बाला होss,
माँ अंजनी का लाला,
शीश मुकुट है गदा हाथ में,
और गले में माला,
ऐसे बजरंग बाला होss,
माँ अंजनी का लाला।।

तर्ज – ऐसा देश है मेरा।



बजरंगबली के डर से,

सब भूत भाग जाते हैं,
इनकी माला जपने से,
सोये भाग्य जाग जाते है,
तो फिर तो,
नई रोशनी नया सवेरा-2,
दूर अंधेरा काला,
ऐसे बजरंग बाला होss,
माँ अंजनी का लाला।।



सियाहरण समय बाला ने,

श्री राम के काज सँवारे,
माता का पता लगाया,
और बन गए प्रभु के प्यारे,
और फिर,
लंका नगरी को बाला ने-2,
तहस नहस कर डाला,
ऐसे बजरंग बाला होss,
माँ अंजनी का लाला।।



ये रामभक्त कहलाते,

प्रभु जी दिल में रहते है,
इसलिए ये दुनिया वाले,
इनको राम दूत कहते है,
प्रभु जी,
इनसे एक पल बिछुड़ ना पाए-2,
बन्धन है ये निराला,
ऐसे बजरंग बाला होss,
माँ अंजनी का लाला।।



लाल देह और लाल है चोला,

मुखड़ा भोला भाला,
ऐसे बजरंग बाला होss,
माँ अंजनी का लाला,
शीश मुकुट है गदा हाथ में,
और गले में माला,
ऐसे बजरंग बाला होss,
माँ अंजनी का लाला।।

गायक / प्रेषक – विक्की सदावर्तिया जी।
9356488811


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें