लखन मोसे बोले ना आंसुओ की लग रही धार भजन लिरिक्स

आंसुओ की लग रही धार,
लखन मोसे बोले ना,
बोले ना रे भैया बोले ना,
आंसुओ की लग रही धार,
लखन मोसे बोलें ना।।



उठा के लखन को गोदी में रखलए,

गोदी में रखलए हाँ,
गोदी में रखलए,
तेरे कहां पे लगो हैं बाण,
लखन मोसे बोलें ना,
आंसुओ की लग रही धार,
लखन मोसे बोलें ना।।



हनुमंत जी लंका को जइयो,

वहां से वैध सुषेण को लईयो,
मेरे भैया की नवज बतइओ,
की लाल मेरो बोले ना,
आंसुओ की लग रही धार,
लखन मोसे बोलें ना।।



हनुमंत जी द्रोणागिरी जईओ,

वहां से संजीवनी बूटी लईओ,
मेरे भैया को घोंट के पिलईओ,
की लाल मेरो बोले ना,
आंसुओ की लग रही धार,
लखन मोसे बोलें ना।।



आंसुओ की लग रही धार,

लखन मोसे बोले ना,
बोले ना रे भैया बोले ना,
आंसुओ की लग रही धार,
लखन मोसे बोलें ना।।

Upload By – Manish Prajapati
7693018648


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें