खाटू कितनी दूर भजन लिरिक्स

माये नी मेरीये,
बाबे दी गलियाँ,
खाटू कितनी दूर,
जयपुर नि वसना,
रिंगस नि वसना,
खाटू तो जाणा जरुर,
माये नी मेरीये,
बाबे दी गलियाँ,
खाटु कितनी क दूर।।

तर्ज – चम्बा कितनी दूर।



खाटू दी गलियाँ,

सपणे च ओंदी,
अखियां च छाया सुरूर,
माये नी मेरीये,
बाबे दी गलियाँ,
खाटु कितनी क दूर।।



ओदी ही करनी,

हाँ मैं जी हजूरी,
मालिक ओ मेरा हुजूर,
माये नी मेरीये,
बाबे दी गलियाँ,
खाटु कितनी क दूर।।



मैं ता बाबे दे,

मंदर नू जासा,
ओ मेरी अखियाँ दा नूर,
माये नी मेरीये,
बाबे दी गलियाँ,
खाटु कितनी क दूर।।



माये नी मेरीये,

बाबे दी गलियाँ,
खाटू कितनी क दूर,
जयपुर नि वसना,
रिंगस नि वसना,
खाटू तो जाणा जरुर,
माये नी मेरीये,
बाबे दी गलियाँ,
खाटु कितनी क दूर।।

Voice – Raj Pareek


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें