गिरधर गोपाल राधे गिरधर गोपाल भजन लिरिक्स

गिरधर गोपाल राधे गिरधर गोपाल भजन लिरिक्स

गिरधर गोपाल राधे,
गिरधर गोपाल,
राधा पुकारे बार बार,
आजा मेरे गिरधर गोपाल,
राधा पुकारे बार बार,
आजा मेरे गिरधर गोपाल।।



मथुरा में ढूंढा तुझे,

गोकुल मे ढूंढा,
ढूंढा है सारा ब्रजधाम,
आजा मेरे गिरधर गोपाल।

गिरधर गोपाल राधें,
गिरधर गोपाल,
राधा पुकारे बार बार,
आजा मेरे गिरधर गोपाल,
राधा पुकारे बार बार,
आजा मेरे गिरधर गोपाल।।



यमुना में ढूंढा तुझे,

सरयु में ढूंढा,
ढूंढा है सारा गंगाधाम,
आजा मेरे गिरधर गोपाल।

गिरधर गोपाल राधें,
गिरधर गोपाल,
राधा पुकारे बार बार,
आजा मेरे गिरधर गोपाल,
राधा पुकारे बार बार,
आजा मेरे गिरधर गोपाल।।



पूरब में ढूंढा तुझे,

पश्चिम में ढूंढा
उत्तर में ढूंढा तुझे,
दक्षिण में ढूंढा,
ढूंढा है सारा संसार,
आजा मेरे गिरधर गोपाल।

गिरधर गोपाल राधें,
गिरधर गोपाल,
राधा पुकारे बार बार,
आजा मेरे गिरधर गोपाल,
राधा पुकारे बार बार,
आजा मेरे गिरधर गोपाल।।



धरती में ढूंढा तुझे,

आकाश में ढूंढा,
ढूंढा है सारा ब्रम्हाण्ड,
आजा मेरे गिरधर गोपाल।

गिरधर गोपाल राधें,
गिरधर गोपाल,
राधा पुकारे बार बार,
आजा मेरे गिरधर गोपाल,
राधा पुकारे बार बार,
आजा मेरे गिरधर गोपाल।।



गिरधर गोपाल राधे,

गिरधर गोपाल,
राधा पुकारे बार बार,
आजा मेरे गिरधर गोपाल,
राधा पुकारे बार बार,
आजा मेरे गिरधर गोपाल।।

– गायक – 
श्री राम प्रजापति


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें