प्रथम पेज कृष्ण भजन खाटू आते है ज्योत जगा के भजन सुना के तुझे रिझाते है...

खाटू आते है ज्योत जगा के भजन सुना के तुझे रिझाते है लिरिक्स

खाटू आते है खाटू आते हैं,
ज्योत जगा के भजन सुना के,
तुझे रिझाते है,
खाटू आते हैं खाटू आते हैं।।

तर्ज – मैं ना भूलूंगा।



खाटू की माटी तो,

बड़ी ही पावन है,
देखी जो श्याम बगीची,
बड़ी मन भावन है,
आ जाते है जब जब तेरी,
याद सताती है,
तुम से है जो प्रेम का रिश्ता,
हम तो निभाते है ,
खाटू आते हैं खाटू आते हैं।।



बड़ा निर्मल जल है,

बाबा तेरे कुंड का,
गजब दीवाना पन,
दीवानों के झुंड का,
तुमसे मिलने की चाहत,
हम को तडपाती है,
तुम से है जो प्रेम का रिश्ता,
हम तो निभाते है,
खाटू आते हैं खाटू आते हैं।।



बुलाते रहना तुम,

खाटू में सांवरिया,
सुनाते रहना तुम,
प्रेम की बांसुरिया,
‘चोखानी’ संग ‘राधे’ को,
तेरी छवि लुभाती है,
तुम से है जो प्रेम का रिश्ता,
हम तो निभाते है ,
खाटू आते हैं खाटू आते हैं।।



खाटू आते है खाटू आते हैं,

ज्योत जगा के भजन सुना के,
तुझे रिझाते है,
खाटू आते हैं खाटू आते हैं।।

Singer – Sachin Radhe


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।