कांवड़ सजा के चालो सावन ऋतू है आई भजन लिरिक्स

कांवड़ सजा के चालो,
सावन ऋतू है आई,
भक्तो को शिव ने अपने,
आवाज है लगाई,
कावड़ सजा के चालो,
सावन ऋतू है आई।।

तर्ज – झूलन चलो हिंडोलना।



सावन की ऋतू है प्यारी,

भक्तो करो तयारी,
शिव गौरा से मिलन की,
मन में उमंग भारी,
मन में उमंग भारी,
तन हो गया है फागण,
मन में बसंत छाई,
कावड़ सजा के चालो,
सावन ऋतू है आई।।



जीवन है तेरा छोटा,

बातों में ना लगाना,
जब जब भी आए सावन,
कांवड़ शिव चरण चढ़ाना,
जिस भक्त के ये भाव,
जिस भक्त के ये भाव,
उसने शिव कृपा है पाई,
कावड़ सजा के चालो,
सावन ऋतू है आई।।



आदेश शिव का होता,

दर्शन को सभी है पाते,
शिव की कृपा जो होती,
कांवड़ तभी उठाते,
हमने भी शिव कृपा से,
हमने भी शिव कृपा से,
जीवन में कृपा ये पाई,
Bhajan Diary Lyrics,
कावड़ सजा के चालो,
सावन ऋतू है आई।।



कांवड़ सजा के चालो,

सावन ऋतू है आई,
भक्तो को शिव ने अपने,
आवाज है लगाई,
कावड़ सजा के चालो,
सावन ऋतू है आई।।

Singer – Kumar Narendra


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

दूल्हा बना है भोला उज्जैन की नगरी में भजन लिरिक्स

दूल्हा बना है भोला उज्जैन की नगरी में भजन लिरिक्स

दूल्हा बना है भोला, उज्जैन की नगरी में।। दोहा – उज्जैन की हर गली गली, दुल्हन की तरह से सजती है, और भोले के दरबार में महफिल, पंजे तन के…

हरे शिव शंकर कष्ट सारे चला आ शिव की तू शरण में भजन लिरिक्स

हरे शिव शंकर कष्ट सारे चला आ शिव की तू शरण में भजन लिरिक्स

हरे शिव शंकर कष्ट सारे, चला आ शिव की, चला आ शिव की तू शरण में, काम सब बिगड़े वो सँवारे, हरे शिव शंकर कष्ट सारें, हरे शिव शंकर कष्ट…

महिमा तेरी समझ सका ना कोई भोले शंकर भजन लिरिक्स

महिमा तेरी समझ सका ना कोई भोले शंकर भजन लिरिक्स

महिमा तेरी समझ सका ना, कोई भोले शंकर, कभी तो भोले भंडारी हो, कभी तो रूप भयंकर, कभी तो भोले भंडारी हो, कभी तो रूप भयंकर।। भक्तों के मन को…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे